नई दिल्ली. आज हमारे देश में 8 साल की बच्ची के साथ गैंगरेप और मर्डर के कारण जनआक्रोश उमड़ पड़ा है, हर व्यक्ति बलात्कारियों के लिए कठोर से कठोर सजा की मांग कर रहा है पर रेप मानव समाज का एक बहुत ही बदबूदार हिस्सा है जिससे हर सभ्य समाज का व्यक्ति अपना मुँह फेरना चाहता है.

पश्चिमी डेवलेप्ड देशों के परिस्थिति भी बेहद खराब है आकड़े बताते है अमेरीका में प्रति 98 सेकंड एक औरत यौन अपराध की शिकार होती है और पिछले 20 सालों में 1 करोड़ 77 लाख से ज्यादा महिलाएं इसका शिकार हो चुकी है . वहीं इंग्लैंड में प्रति घंटे 11 रेप की घटनाएं होती है और हर साल 85 हजार औरतें और 12 हजार से ज्यादा पुरुष रेप के शिकार होते हैं. वहीं फ्रांस में हर साल 75 हजार से ज्यादा रेप की घटनाएं होती है जिसमें 5000-7000 घटनाएं गैंगरेप की हैं .साउथ अफ्रीका में हर साल 5 लाख औरतों के साथ रेप होता है , वहीं इजिप्ट में 2 लाख औरतें रेप का शिकार होती हैं .

एशियाई देशों के हालात 
चीन अपने आंकडे़ जारी नहीं करता पर 2007 में U.S department of state के अनुसार 31,833 रेप की घटनाएं चीन में दर्ज हुई थी .चीन में मैरेटीयल रेप के खिलाफ कोई कानून नहीं है . वहीं बांग्लादेश में 2013-2017 के बीच 17,389 रेप की घटनाएं दर्ज हुई . जिसमें 3528 मामले में नाबालिगों के साथ दुष्कर्म हुआ था .हालांकि बांग्लादेश के बारे में कहा जाता है वहां कुछ ही मामले दर्ज हो पाते है.

पाकिस्तान के हालात
पाकिस्तान भी रेप के आंकड़े जारी नहीं करता , पर human rights watch के हिसाब से प्रति दो घंटे एक औरत का रेप होता है और हर आठ घंटे एक औरत गैंग रेप का शिकार होती है . हालांकि पाकिस्तान के आंकड़े मौजूद नहीं है पर पाकिस्तान में बच्चों शोषण का बहुत ज्यादा होता है , BRITAIN CHANNEL 4 की  मो. नकवी और जैमी डोरन ने एक documentary मूवी बनाई “पाकिस्तान हिडेन शेम” pakistan hidden shame बनाई जो वहां के धार्मिक संस्थाओं में बच्चों के यौन शोषन को उजागर करती है. एक आंकड़े बताते है पाकिस्तान के मदरसाओं में पढ़ने वाले 300 में 50 बच्चों का यौन शोषन होता है. अभी जनवरी के महीने में पाकिस्तान में 7 साल की बच्ची का रेप कर हत्या कर दी गई थी और उसके बाद पूरे पाकिस्तान में उबाल आ गया , लाखों लोगों ने सड़को पर आकर प्रर्दशन किया था.

भारत के हालात
रेप भारत का चौथा सबसे आम अपराध है , National Crime Records Bureau के अनुसार 2013 में 24,470 रेप की घटनाएं हुई है और 98% प्रतिशत मामलों में गुनहगार जान-पहचान का व्यक्ति ही निकलता है . भारत के बारे में कहा जाता है ज्यादातर रेप के मामले रिपोर्ट ही नहीं होते है. निर्भया मामले के बाद भारत की संसद ने नया रेप का कानून बनाया जो पहले से ज्यादा सख्त था पर उसके बाद भी कोई बड़ा परिवर्तन देखने को नहीं मिल रहा है. नाबालिगों से रेप के मामले भी बढ़ते ही जा रहे है ,हर साल 7200 नाबालिगों से रेप के घटनाएं दर्ज हो रही हैं .देह व्यापार के लिए बच्चीयों के अपहपरण के मामले में भारत का 7वां स्थान विश्व में है.हाल की 8 साल की कश्मीरी बच्ची के साथ रेप और मर्डर ,और उन्नाव की घटना जिसमें आरोप एक सत्ताधारी दल के विधायक पर लगा है इससे आज फिर 2012 जैसी परिस्थिति बन रही है जहां जनता सड़क पर आ अपना विरोध दर्ज करा रही है और राजनीतिक दलों के कठघरे में खड़ा कर सवाल पूछ रही है.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App