हिसार. हिसार के सतलोक आश्रम में हत्या के आरोप में जेल में बंद संत रामपाल के मामले में गुरुवार को कोर्ट का फैसला आ गया. कोर्ट ने रामपाल को हत्या के दो मामलों में दोषी करार दिया है. ऐसे में सुरक्षा को लेकर चिंतित जिला प्रशासन ने सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए हैं. साथ ही जिले में धारा 144 लगा दी गई है और सभी सीमाओं को सील कर दिया गया है. वहीं फैसले से पहले कोर्ट के तीन किलोमीटर के दायरे में सुरक्षा घेरा बना दिया गया था. इसके भीतर किसी भी बाहरी शख्स के आने पर पाबंदी है. शहर में 48 पुलिस नाके सिर्फ रामपाल समर्थकों को शहर में घुसने से रोकने के लिए लगाए गए हैं.

माना जा रहा है कि कोर्ट की सुनवाई के समय 10 से 20 हजार रामपाल समर्थक कोर्ट परिसर, सेंट्रल जेल, लघु सचिवायल, पार्क जैसी अन्य जगहों पर इकट्ठा हो सकते हैं. ऐसे में वे कोई उत्पात न कर सकें इसे ध्यान में रखते हुए पुलिस ने पहले से ही तैयारी की हुई है. साथ ही आरएएफ की पांच कंपनियों को हिसार बुलाया गया है.

बता दें कि साल 2014 के नवंबर में रामपाल के समर्थकों और पुलिस की टीम के बीच टकराव हुआ था जिसमें चार महिलाओं और एक बच्चे की मौत हुई थी. जिसके चलते आश्रम चलाने वाले रामपाल पर हत्या का मामला दर्ज हुआ था. मामले में रामपाल समेत कुल 15 लोग आरोपी हैं. वहां एक महिला की मौत के अन्य मामले में रामपाल सहित 13 आरोपी हैं. 6 लोग ऐसे हैं जिन्हें दोनों केस में आरोपी पाया गया है.

यहां पढ़ें Rampal Case Verdict Highlights:

संत रामपाल ने जेल अधीक्षक पर लगाए गंभीर आरोप

हिसार कोर्ट में आज रामपाल पर फैसला, दस बड़ी बातों में जानिए बाबा की जन्मकुंडली

Highlights

हत्या के दो मामलों में रामपाल दोषी करार

स्वयंभू बाबा रामपाल को उनके खिलाफ दायर हत्या के दोनों मामलों में हिसार कोर्ट ने दोषी ठहराया है.

सुनवाई के लिए हिसार कोर्ट पहुंचे जज

रामपाल के केस की सुनवाई के लिए जज हिसार कोर्ट पहुंत चुके हैं. वहीं रामपाल के वकील भी पहले से कोर्ट में उपस्थित हैं.

सुरक्षा के मद्देनजर रूट डाइवर्ट

हिसार के डिप्टी कमिश्नर अशोक कुमार मीणा ने कहा है कि जिले में धारा 144 लगाई गई है, साथ ही आम लोगों को दिक्कत न हो इसका खास ध्यान रखा जा रहा है. कौन- कौन से रूट डाइवर्ट किए गए हैं इसकी जानकारी लोगों को दे दी जाएगी. हालातों के मद्देनजर क्षेत्र में इंटरनेट सुविधा को बंद किया गया है.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App