नई दिल्ली. रमजान 2020 को लेकर नरेंद्र मोदी सरकार ने सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को निर्देश जारी करते हुए कहा कि कोरोना वायरस लॉकडाउन के मद्देनजर प्रशासन रमजान के दौरान यह सुनिश्चित करे कि मस्जिदों में भीड़ इकट्ठी न हो. साथ ही मुस्लिम धर्मगुरुओं से अपील करें कि वे अपने सभी अनुयायियों को घरों के अंदर ही इबादत के लिए कहें. मालूम हो कि इस्लाम का पवित्र महीना रमजान गुरुवार 23 अप्रैल से शुरू हो रहा है.

केंद्र सरकार के वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि किसी भी धार्मिक स्थल पर लॉकडाउन के दौरान पूजा करने पर सख्ती से मनाई है. हमें उम्मीद है कि रमजान के दौरान भी सभी लोग सरकार के इन निर्देशों का पालन करेंगे. वरिष्ठ अधिकारी ने आगे कहा कि सभी राज्य सरकारों से कहा गया कि वे अपने सभी मुस्लिम नेताओं से संपर्क में रहें ताकि सुनिश्चित हो सके कि किसी भी तरह मस्जिदों में भीड़ जमा ना हो पाए और सभी लोग घरों के अंदर ही पांच वक्त और तरावीह की नमाज अदा करें.

बता दें कि रमजान के दौरान मु्स्लिम समुदाय के लोग सुबह सूर्योदय से पहले सहरी ( एक तरह का हल्का नाश्ता ) खाकर रोजे यानी व्रत की शुरुआत करते हैं. शाम के समय इफ्तार के दौरान रोजा खोला जाता है. रोजे के दौरान मुस्लिम लोगों को कुछ भी खाने- पीने की इजाजत नहीं होती है.

हालांकि, तबियत खराब जैसी हालात में रोजा तोड़ा जा सकता है. रमजान में रात के समय मस्जिदों में तराबी ( तरावीह) नमाज का आयोजन भी कराया जाता है. इस दौरान एक धर्मगुरु नमाज पढ़ाते हुए लोगों को पवित्र ग्रंथ कुरान की आयतें सुनाते हैं. हालांकि, इस बार लॉकडाउन की वजह से मस्जिदों में तराबी नमाज होने पर प्रतिबंध रहेगा.

Happy Ramadan 2020 Mubarak Wishes: रोजे शुरू होने पर इन GIF फोटो मैसेज को भेजकर अपनों को कहें रमजान मुबारक

Karnataka BJP Govt Ban Ramzan Prayer in Mosque: लॉकडाउन के दौरान रमजान में मस्जिदों में नहीं होगी नमाज, लाउडस्पीकर पर अजान की भी रोक, कर्नाटक की बीजेपी सरकार ने जारी की गाइडलाइंस

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App