नई दिल्ली : अयोध्य में बन रहे भव्य राम मंदिर के लिए आज से निधि समर्पण अभियान की शुरुआत हो गई हैं. जिसके चलते शुक्रवार को श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र के कोषाध्यक्ष स्वामी गिरी देव महाराज और विश्व हिंदू परिषद (VHP) के अध्यक्ष आलोक कुमार समेत कई बड़े नेता आज सुबह राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मिलने उनके आवास पर पहुंचे, जहां उन्होंने राष्ट्रपति से मुलाकात की और उनसे चंदे की राशि भी ली.

राष्ट्रपति कोविंद ने चेक से राम मंदिर के लिए 5,01,000 रुपये की राशि का चंदा दिया है. जिस पर VHP अध्यक्ष आलोक कुमार ने कहा कि राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने राम मंदिर के लिए पहला चंदा दिया है. उन्होंने कहा, ‘वह देश के प्रथम नागरिक हैं, इसलिए हम चाहते थे कि वह इस अभियान की शुरुआत करें. उन्होंने 5 लाख एक हजार रुपये का चंदा दिया है’

बता दें कि राम मंदिर निर्माण के लिए अहमदाबाद के हीरा कारोबारी गोविंदभाई ढोढाकिया ने 11 करोड़ रुपये का चंदा दिया है. इसके अलावा मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र निधि संग्रह अभियान के अंतर्गत अयोध्या में भगवान राम के मंदिर निर्माण के लिए विश्व हिंदु परिषद के राष्ट्रीय संगठन मंत्री विनायक राव देशमुख जी को एक लाख रुपए का चेक दिया है. इसले अलावा राम मंदिर निर्माण के लिए आज सबसे बड़ा चंदा रायबरेली से मिलेगा. रायबरेली के सुरेंद्र सिंह आज मंदिर निर्माण के लिए एक करोड़ रुपये का समर्पण निधि सौंपेंगे.

गौरतलब है कि राम मंदिर निर्माण के लिए पांच लाख से ज्यादा गांवों में बारह करोड़ से ज्यादा परिवारों से चंदा मांगा जाएगा. राम मंदिर के लिए चंदा जुटाने का अभियान 27 फरवरी तक चलाया जाएगा. वहीं जो भी चंदे के लिए 10, 100, 1000 और 2000 रुपये के कूपन होंगे और जो भी शख्स 2 हजार से ज्यादा की राशि देगा उसे रसीद दी जाएगी.

Army day 2021 : सेना दिवस पर आर्मी चीफ एम एम नरवणे ने दी चीन को चेतावनी, कहा – हमारे सब्र का इम्तिहान लेने की गलती कोई ना करे

Kisan Andolan Update : कुछ देर में किसानों-सरकार में बात, कमेटी गठन के बाद पहली मीटिंग

 

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर