नई दिल्ली. रक्षाबंधन से अब तक सोशल मीडिया पर एक पोस्ट काफी वायरल हो रहा है. जिसमें दावा किया जा रहा है कि रक्षाबंधन 2018 पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को राखी बांधने के लिए आधार कार्ड होना जरूरी था. जिन बहनों के पास आधार कार्ड नहीं था वह पीएम मोदी को राखी नहीं बांध सकते थे. इस पोस्ट की पड़ताल करने पर ज्ञात होता है कि यह पोस्ट झूठा है.

ट्वटिर, फेसबुक व अन्य सोशल मीडिया पर वायरल होने वाले तमाम झूठे पोस्ट की तरह ये पोस्ट भी सच्चा नहीं है. इस पोस्ट व इस फोटो को खुद पीएमओ की ऑफिशियल वेबसाइट ने शेयर किया था. जिसमें स्कूल की छात्रा पीएम मोदी की कलाई पर राखी बांध रही है. इस फोटो में छात्रा के हाथ में आधार कार्ड था जिसके बाद सोशल मीडिया पर ऐसे पोस्ट वायरल होने लगे कि पीएम मोदी को राखी बांधने के लिए भी आधार कार्ड अनिवार्य था.

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार जब राखी बांधने का कार्यक्रम आयोजित किया गया तो सुरक्षा के मद्देनजर हर छात्रा को आईडी प्रूफ ले जाने को कहा गया था. बतौर मीडिया, जिन छात्रों ने स्कूल आई कार्ड नहीं पहना था वह आधार कार्ड लेकर पीएम मोदी को राखी बांधने पहुंचे थे. जबकि सोशल मीडिया पर इस पोस्ट को अलग ही शक्ल देकर शेयर किया जाने लगा. गूगल पर भी इस फोटो को जांचने के बाद पता चला कि इस फोटो को कई सरकारी वेबसाइट व सोशल मीडिया पेज ने शेयर भी किया था.

Aadhaar card mandatory for girls to tying rakhi to PM modi

बतखों के तैरने से पानी में बढ़ता है अॉक्सीजन, सही था त्रिपुरा के मुख्यमंत्री बिप्लब देब का बयान

Bhima Koregaon raids LIVE updates: सुप्रीम कोर्ट ने अर्बन नक्सल के आरोप में गिरफ्तार 5 माओवादी शुभचिंतकों की रिमांड पर रोक लगाई, 5 सितंबर तक रहेंगे नजरबंद

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App