नई दिल्ली. रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह आज फ्रांस में भारतीय वायु सेना के लिए आधिकारिक रूप से पहला राफेल लड़ाकू विमान प्राप्त करेंगे. ये एक ऐसा कदम जो देश की हवाई युद्ध क्षमता को काफी बढ़ाएगा. रक्षा मंत्री वायु सेना दिवस के अवसर पर बोर्डो के पास मरिग्नैक हवाई अड्डे पर फ्रांसीसी टीम से विमान को स्वीकार करेंगे. राजनाथ सिंह फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रॉन से भी मुलाकात करेंगे और दोनों नेता बोर्डो के लिए रवाना होने से पहले कई मुद्दों पर चर्चा करेंगे. राजनाथ सिंह राफेल में उड़ान भी भरेंगे. रक्षा मंत्री हथियारों की पूजा से जुड़ी एक रस्म शस्त्र पूजा भी करेंगे. ये पूजा उन्हें पहला अत्याधुनिक राफेल फाइटर जेट प्राप्त होने के बाद की जाएगी. दरअसल शस्त्र पूजा हजारों वर्षों से भारतीय परंपरा का हिस्सा रही है. राजपूत योद्धा राजा महाराणा प्रताप अपने दुश्मनों के खिलाफ लड़ाई शुरू करने से पहले शस्त्र पूजा करने के लिए जाने जाते थे. विजयादशमी के शुभ अवसर पर, परंपरा को ध्यान में रखते हुए, लोग अभी भी देश के कुछ हिस्सों में शस्त्र पूजा करते हैं.

मेरिग्नैक एयर बेस में, रक्षा मंत्री राजनाथ सिह भारत के लिए निर्मित पहला राफेल लड़ाकू विमान प्राप्त करेंगे, जिसका टेल नंबर RB-01 होगा. ये भारतीय एयर फोर्स, आईएएफ प्रमुख एयर चीफ मार्शल आरकेएस भदौरिया के नाम के शुरुआती अक्षर हैं. आईएएफ प्रमुख ने 60,000 करोड़ रुपये से अधिक के भारत के सबसे बड़े रक्षा सौदे पर हस्ताक्षर करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी. राजनाथ सिंह फ्रांस में 36 लड़ाकू जेट विमानों में से पहला प्राप्त करने के बाद एक राफेल फाइटर जेट पर उड़ान भी भरेंगे. योजना के अनुसार, एक फ्रांसीसी पायलट लड़ाकू जेट के सामने वाले कॉकपिट में उड़ान भरेगा, जबकि राजनाथ सिंह पीछे की सीट पर बैठेंगे.

Live Blog

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने फ्रांस में भरी राफेल विमान से उड़ान

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने मंगलवार को फ्रांस में राफेल विमान से उड़ान भरी. शस्त्र पूजा के बाद उन्होंने मेरिग्नेक स्थित एयर बेस से राफेल पर उड़ान भरी. भारत के लिए यह ऐतिहासिक पल है, क्योंकि ऐसा पहली बार है जब भारतीय रक्षा मंत्री ने विदेशी जमीन पर फाइटर जेट से उड़ान भरी है.

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने राफेल की पूजा करने के बाद बांधा रक्षा सूत्र

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने मंगलवार शाम (भारतीय समयानुसार) फ्रांस के मेरिग्नेक में कोबैंट विमान राफेल को भारतीय वायु सेना के बेड़े में शामिल कराया और इसके बाद राफेल की पूजा की. शस्त्र पूजा के दौरान राजनाथ सिंह ने राफेल में रक्षा सूत्र बांधा. साथ ही राफेल विमान पर ओम निशान बनाने के साथ ही नारियल और फूल चढ़ाए..

फ्रांस ने भारत को सौंपा राफेल RB001

फ्रांस ने भारत को राफेल RB001 सौंप दिया है. मंगलवार को एक सेरेमनी में फ्रांस स्थित मेरिग्नेक में फ्रांसीसी अधिकारियों ने रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह को फाइटर जेट राफेल सौंपा. इस मौके पर राजनाथ सिंह ने कहा कि राफेल के भारतीय वायु सेना के बेड़े में शामिल होने से वायु सेना और मजबूत हुई है.

राजनाथ सिंह ने नियत समय पर राफेल की डिलिवरी पर जताई खुशी

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह से फ्रांस के मेरिग्नेक में मीडियाकर्मियों को संबोधित करते हुए कहा कि मैं खुश हूं कि राफेल की डिलिवरी सही समय पर हो रही है. उन्होंने कहा कि राफेल पाना भारतीय वायुसेना के लिए गर्व का विषय है. राजनाथ सिंह ने उम्मीद जताई कि भविष्य में भी भारत और फ्रांस के रिश्ते मजबूती से आगे बढ़ते रहेंगे.

राफेल फाइटर जेट हमारी सेना को और सशक्त करेगा, फ्रांस और भारत के रिश्ते और मजबूत हुए: राजनाथ सिंह

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह फ्रांस में मीडिया को संबोधित कर रहे हैं. इस दौरान उन्होंने कहा कि राफेल फाइटर जेट हमारी सेना को और सशक्त करेगा. साथ ही उन्होंने ये भी कहा कि राफेल सौदे से फ्रांस और भारत के रिश्ते और मजबूत हुए हैं. उन्होंने कहा कि आज का दिन भारत और फ्रांस के लिए मील का पत्थर साबित होगा.

इंतजार की घड़ी खत्म होने वाली है, राजनाथ भरेंगे राफेल की उड़ान

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह कुछ पलों में राफेल से पहली उड़ान भरने वाले हैं. जिस फाइटर जेट से राजनाथ सिंह उड़ान भरने वाले हैं, वह पूरी तरह एयरबेस में तैयार खड़ा है. राजनाथ सिंह कुछ देर में शस्त्र पूजा करेंगे और फिर वह उस ऐतिहासिक पल के साक्षी होंगे, जिसपर देशभर की निगाहें हैं. राजनाथ सिंह राफेल के पहले बेड़े को भारतीय वायुसेना में शामिल कराने और उसे भारत लाने फ्रांस गए हैं.

दसॉ कंपनी में पहुंचे राजनाथ सिंह

फ्रांस के मेरिग्नैक में दसॉ कंपनी की फैक्ट्री में राजनाथ सिंह पहुंच गए हैं. दसॉ असेंबली लाइन फेसिलिटी में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह निरीक्षण कर रहे हैं. आज यहीं से राजनाथ सिंह राफेल विमान की पहली खेप भारत लेकर आएंगे.

Rajnath Singh Rafale Receiving, Flying in France Live Updates: राजनाथ सिंह पहुंचे मैरीग्नेक

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह फ्रांस के मैरीग्नेक पहुंच गए हैं. उन्होंने कुछ मिनटों पहले ही मैरिग्नेक में लैंड किया है. यहां वे कुछ समय बाद पहला राफेल विमान लेंंगे.

Live Updates: रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और फ्रांस के राष्ट्रपति इमानुअल मैक्रो की हुई मुलाकात, चल रही है बैठक

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह इस वक्त फ्रांस के राष्ट्रपति इमानुअल मैक्रो के साथ बैठक कर रहे हैं. आज राजनाथ सिंह राफेल विमानों की खेप का पहला विमान फ्रांस से प्राप्त करेंगे. इस मौके पर वो राफेल विमान में उड़ान भी भरेेेंगे. साथ ही राजनाथ सिंह राफेल विमान में उड़ान भी भरेंगे.

डील के तीन साल बाद राफेल का पहला विमान आज होगा भारत का

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह फ्रांस के एयरोस्पेस प्रमुख डसॉल्ट एविएशन द्वारा निर्मित विमान की खरीद के लिए मेगा सौदे पर मुहर लगाएंगे. ये भारत और फ्रांस के बीच हुई डील के तीन साल बाद मिल रहा है. मंगलवार को पेरिस में एक एयर बेस पर पहला राफेल जेट प्राप्त होगा. हालांकि भारत में 2020 में राफेल विमान की डिलीवरी होगी.

राफेल विमान को लेकर राजनाथ सिंह का आज का कार्यक्रम: (भारतीय समयानुसार)

फ्रांस के दौरे पर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह का आज का पूरा कार्यक्रम यहां दिया गया है. ये कार्यक्रम भारतीय समयनुसार है. दोपहर 1.30 बजे राजनाथ सिंह फ्रांस के रक्षा मंत्री और राष्ट्रपति से मुलाकात करेंगे. इसके बाद शाम 5.30 बजे वे मेरिगन्क में राफेल विमान रिसीव करने के बाद उसमें उड़ान भरेंगे. दिन के अंत में रात 10 बजे वो पेरिस में फ्रांस के मंत्री से मुलाकात करेंगे.

राफेल का फायदा

राफेल का सबसे बड़ा फायदा यह है कि यह परमाणु हथियार पहुंचाने में सक्षम है. हालांकि, देश ने परमाणु वारहेड डिलीवरी मिसाइल नहीं खरीदी है, लेकिन सूत्रों ने कहा कि भारतीय प्रणाली में एकीकरण भारत के लिए है और जब वह तय करेगा, तब कोई मुद्दा नहीं होगा. गेम-चेंजिंग मिसाइल ऑन-द-राफेल मिटियॉर है.

आज रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह दोपहर 1.30 बजे करेंगें फ्रांस के राष्ट्रपति मैक्रो से मुलाकात, जानें पूरा कार्यक्रम

राफेल विमान को लेकर आज का कार्यक्रम: (भारतीय समयानुसार)
दोपहर 1.30 बजे: फ्रांस के रक्षा मंत्री और राष्ट्रपति से मुलाकात
शाम 5.30 बजे: मेरिगन्क में राफेल विमान में उड़ान और रिसीव करना
रात 10 बजे: पेरिस में फ्रांस के मंत्री से मुलाकात

भारतीय वायु सेना होगी और मजबूत

भारतीय वायुसेना और पाकिस्तान वायु सेना (पीएएफ) के बीच 26 फरवरी के डॉगफाइट के बाद पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा था कि अगर भारत के पास राफेल जेट होते तो हवाई लड़ाई का परिणाम कुछ अलग होता. अब भारत में राफेल आने के एकीकरण के साथ, आईएएफ के पास सबसे शक्तिशाली 4.5 पीढ़ी के लड़ाकू विमान होंगे.

राफेल की विशेषता

राफेल की विशेषताओं में हेलमेट-माउंटेड जगहें और लक्ष्यीकरण प्रणाली शामिल हैं, जिससे पायलटों को बेहतर गति से हथियारों को शूट करने की क्षमता मिलती है. रिपोर्ट्स के मुताबिक, राफेल भारत का सबसे सक्षम फाइटर जेट बनने वाला है. वर्तमान में, सुखोई SU-30MKI सबसे सक्षम विमान है. अन्य कारणों के साथ, राफेल को बेहतर बनाता है. इसकी सीमा क्षमता Su 30 के 1.5 गुना है. इसके अलावा, राफेल में एक लंबी दूरी की जमीन पर हमला करने वाली मिसाइल है, जिसमें सटीकता के साथ लक्ष्य निकालने की क्षमता है.

ऊंचाई से उड़ान भरने की क्षमता

खबरों के मुताबिक, 126 लड़ाकू विमान खरीदने का मूल प्रस्ताव सबसे पहले राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन, एनडीए सरकार के दौरान अटल बिहारी वाजपेयी के नेतृत्व में रखा गया था. यह सौदा भारतीय वायुसेना के विनिर्देशों को ध्यान में रखता है, जिसमें एक कोल्ड स्टार्ट पर उच्च ऊंचाई वाले हवाई अड्डों से उड़ान भरने की क्षमता भी शामिल है.

दशहरा और एयरफोर्स डे के दिन राफेल मिलेगा

राफेल विमान का औपचारिक हैंडओवर उस समय होगा जब भारत दशहरा मना रहा है, जो बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक है, साथ ही 87 वां भारतीय वायु सेना दिवस भी आज है. रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने फ्रांस से आज सुबह ट्वीट करके एयरफोर्स दिवस की शुभकामनाएं दीं. उन्होंने लिखा 87 वें आईएएफ दिवस पर सभी आईएएफ कर्मियों और उनके परिवारों को शुभकामनाएं. आईएएफ हमारे राष्ट्र के लिए अनुकरणीय साहस, दृढ़ संकल्प, दृढ़ संकल्प और त्रुटिहीन सेवा का चमकदार उदाहरण है. ब्लू में इन पुरुषों और महिलाओं में धैर्य और गौरव के साथ आकाश को छूने की क्षमता है.

यात्रा पर राजनाथ सिंह ने कहा,

रक्षा मंत्री ने अपनी यात्रा के लिए ट्वीट किया, बॉनजोर पेरिस! फ्रांस में होने के लिए प्रसन्न हूं! यह महान देश भारत का महत्वपूर्ण रणनीतिक साझेदार है और हमारा विशेष संबंध औपचारिक संबंधों के दायरे से बहुत आगे जाता है. मेरी फ्रांस यात्रा का उद्देश्य दोनों देशों के बीच मौजूदा रणनीतिक साझेदारी का विस्तार करना है. इसी के साथ उन्होंने 87 वीं जयंती पर भारतीय वायुसेना की भी कामना दी.

2016 में ऑर्डर किए 36 राफेल जेट 2020 में होंगे डिलीवर

भारत ने सितंबर 2016 में 59,000 करोड़ रुपये के सौदे में फ्रांस से 36 राफेल फाइटर जेट्स का ऑर्डर दिया था. आज पहले राफेल का औपचारिक हैंडओवर समारोह होने वाला है. चार राफेल जेट विमानों का पहला बैच मई 2020 तक भारत के लिए उड़ान भरेगा. सितंबर 2022 तक सभी 36 जेट विमानों के भारत में आने की संभावना है, जिसके लिए भारतीय वायुसेना ने कथित रूप से तैयारी की है, जिसमें आवश्यक बुनियादी ढांचे और पायलटों के प्रशिक्षण को तैयार करना शामिल है.

राफेल जेट भारत के लिए होगा खास

राफेल जेट विभिन्न भारत-विशिष्ट संशोधनों के साथ आएंगे. इनमें इजरायली हेलमेट-माउंटेड डिस्प्ले, रडार चेतावनी रिसीवर, कम बैंड जैमर, 10 घंटे की उड़ान डेटा रिकॉर्डिंग, इन्फ्रा-रेड सर्च और ट्रैकिंग सिस्टम शामिल हैं. विमान कई शक्तिशाली हथियारों और मिसाइलों को ले जाने में सक्षम है. भारतीय वायुसेना ने लड़ाकू विमान का स्वागत करने के लिए आवश्यक बुनियादी ढांचे और पायलटों के प्रशिक्षण सहित तैयारी पूरी कर ली है.

राफेल जेट भारत के लिए होगा खास

राफेल जेट विभिन्न भारत-विशिष्ट संशोधनों के साथ आएंगे. इनमें इजरायली हेलमेट-माउंटेड डिस्प्ले, रडार चेतावनी रिसीवर, कम बैंड जैमर, 10 घंटे की उड़ान डेटा रिकॉर्डिंग, इन्फ्रा-रेड सर्च और ट्रैकिंग सिस्टम शामिल हैं. विमान कई शक्तिशाली हथियारों और मिसाइलों को ले जाने में सक्षम है. भारतीय वायुसेना ने लड़ाकू विमान का स्वागत करने के लिए आवश्यक बुनियादी ढांचे और पायलटों के प्रशिक्षण सहित तैयारी पूरी कर ली है.

राफेल का दूसरा स्क्वाड्रन पश्चिम बंगाल में होगा तैनात

राफेल का दूसरा स्क्वाड्रन पश्चिम बंगाल में हासिमारा बेस पर तैनात किया जाएगा. लड़ाकू विमानों में भारत-विशिष्ट संवर्द्धन को शामिल करने के लिए राफेल के निर्माता डसॉल्ट एविएशन की मदद करने के लिए आईएएफ की कई टीमें पहले ही फ्रांस का दौरा कर चुकी हैं.

अंबाला पहुंचेगा पहला राफेल विमान

भारत-पाकिस्तान सीमा से लगभग 200 किलोमीटर दूर भारतीय वायुसेना के सबसे रणनीतिक ठिकानों में से एक माना जाने वाले स्क्वाड्रन अंबाला एयर फोर्स स्टेशन पर पहला राफेल विमान तैनात किया जाएगा.

राफेल के लिए भारत तैयार

भारत ने 36 राफेल लड़ाकू जेट की खरीद के लिए सितंबर 2016 में फ्रांस के साथ एक अंतर-सरकारी समझौते पर हस्ताक्षर किए थे. आईएएफ ने पहले ही तैयारी पूरी कर ली है, जिसमें आवश्यक बुनियादी ढांचा तैयार करना और पायलटों के प्रशिक्षण के लिए, देश को लड़ाकू विमान का स्वागत करना शामिल है.

राजनाथ सिंह करेंगे फ्रांसीसी रक्षा उद्योग के मुख्य कार्यकारी अधिकारियों को संबोधित

9 अक्टूबर को, राजनाथ सिंह फ्रांसीसी रक्षा उद्योग के मुख्य कार्यकारी अधिकारियों को संबोधित करेंगे. उनके भारत सरकार के 'मेक इन इंडिया' कार्यक्रम में भाग लेने के साथ-साथ फरवरी में लखनऊ में आयोजित होने वाले डेफएक्सपो के अनुसार भाग लेने की उम्मीद है.

भारत को 2020 में मिलेगा राफेल जेट

राजनाथ सिंह को आज पहला राफेल जेट सौंप दिया जाएगा. हालांकि पहला राफेल भारत में 2020 में पहुंचेगा. आज राफेल को आधिकारिक तौर पर रक्षा मंत्री की यात्रा के बाद भारतीय वायु सेना में शामिल किया जाएगा लेकिन विमान मई 2020 में भारत पहुंचेगा. ये पायलटों और कर्मियों के प्रशिक्षण के बाद भारत में आना शुरू होगा.

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह भरेंगे पहले राफेल में उड़ान

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह आज फ्रांस में 36 लड़ाकू जेट विमानों में से पहला प्राप्त करने के बाद एक राफेल फाइटर जेट पर उड़ान भरेंगे. योजना के अनुसार, एक फ्रांसीसी पायलट लड़ाकू जेट के सामने वाले कॉकपिट में उड़ान भरेगा, जबकि राजनाथ सिंह पीछे की सीट पर बैठेंगे.

मेरिग्नैक एयर बेस पर रक्षा मंत्री को दिया जाएगा पहला राफेल

मेरिग्नैक एयर बेस में, रक्षा मंत्री भारत के लिए निर्मित पहला राफेल लड़ाकू विमान प्राप्त करेंगे. इसकी टेल नंबर RB-01 है. ये आईएएफ प्रमुख एयर चीफ मार्शल आरकेएस भदौरिया के नाम के शुरुआती अक्षर हैं. आईएएफ प्रमुख ने 60,000 करोड़ रुपये से अधिक के भारत के सबसे बड़े रक्षा सौदे पर हस्ताक्षर करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी.

फ्रांस में राजनाथ सिंह ने दिखाया राफेल के लिए उत्साह

पेरिस, फ्रांस में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने उतरने के बाद कहा, स्वाभाविक रूप से, हर कोई भारत में आने वाले राफेल के बारे में उत्साहित है और राफेल कल सौंपा जाएगा, आप भी इस समारोह का गवाह बनें. बता दें कि सोमवार रात को राजनाथ सिंह फ्रांस पहुंचे. मंगलवार दिन में उन्हें राफेल दिया जाएगा. ये भारत का पहला राफेल फाइटर जेट होगा.

फ्रांस पहुंचे रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह कल यानि सोमवार रात फ्रांस के पेरिस पहुंच गए हैं. वो फ्रांस की तीन दिवसीय यात्रा पर हैं जहां वह वार्षिक रक्षा वार्ता और राफेल के प्रेरण समारोह में भाग लेंगे. भारत के लिए पहला राफेल आज राजनाथ सिंह को सौंप दिया जाएगा. कहा जा रहा है कि राफेल मिलने के बाद राजनाथ सिंह शस्त्र पूजा करेंगे और राफेल में उड़ान भरेंगे.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App