जयपुर: कांग्रेस आलाकमान की दखल के बावजूद राजस्थान का सियासी संकट बरकरार है. सचिन पायलट और अशोक गहलोत के बीच तकरार खुलकर सामने आ चुकी है. दोनों नेता अपने-अपने विधायकों को लेकर शक्ति प्रदर्शन में जुटे हुए हैं. कांग्रेस ने आज दोबारा विधायक दल की बैठक बुलाई है, हालांकि खास बात ये है कि कांग्रेस ने इस बैठक में हिस्सा लेने के लिए सचिन पायलट को भी आमंत्रित किया है लेकिन सचिन पायलट ने इसमें शामिल होने से साफ इनकार कर दिया है. सोमवार हुई विधायक दल की बैठक में शामिल विधायकों ने सोनिया गांधी और राहुल गांधी के नेतृत्व में आस्था प्रकट की थी और मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का समर्थन जताया था.

राजस्थान के राजनीतिक संकट पर केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने चुटकी लेते हुए कहा कि, घर सजाने का तस्सवूर तो बहुत बाद में है, पहले ये तो तय करो कि घर को बचाएं कैसे। घर सजाना तब जब घर बचेगा. उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी की लीडरशिप में इतनी नेगेटिविटी इतनी भरी हुई है कि उसका असर खुद उन्हें दिखाई पड़ रहा है. बताया जा रहा है कि कांग्रेस विधायक दल की बैठक बार-बार सचिन पायलट को यह संदेश भेजने के लिए की जा रही है कि अभी भी उनके वापस आने का संभावना बनी हुई है और पार्टी का शीर्ष नेतृत्व के रुख में अभी भी उनके लिए लचीलापन है. आज होने वाली विधायक दल की बैठक के बाद आगे की रणनीति पर काम किया जाएगा. 

Rajasthan Political Crisis Live Updates:

Live Blog

सचिन पायलट के हटाए जाने के बाद राजस्थान गुर्जर बाहुल्य इलाकों में अलर्ट जारी

राजस्थान में जारी राजनीतिक घटनाक्रम के बीच पुलिस ने राज्य के गुर्जर बाहुल्य इलाकों में कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए अलर्ट जारी किया है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक गुर्जर बाहुल्य जिले जैसे अजमेर, भीलवाड़ा, धौलपुर, टोंक, सवाई माधोपुर और भरतपुर में चौकसी बढ़ा दी गई है. पुलिस बारीकी से इन इलाकों में नजर रखे हुए हैं.

कांग्रेस ने सचिन पायलट पर लगाया जनमत का अपमान करने का आरोप

रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि कांग्रेस नेतृत्व ने सारे दरवाजे खुले छोड़कर खुले मन से कहा कि सुबह का भूला अगर शाम को घर आ जाये तो उसे भूला नहीं कहते। लेकिन सचिन पायलट और उनके मंत्री साथी भाजपा के षड्यंत्र में फंसकर जनमत का अपमान कर रहे हैं; जो कि बिलकुल अस्वीकार्य है.

पायलट पर एक्शन के बाद सोनिया गांधी से मिलने पहुंची प्रियंका गांधी

सचिन पायलट और उनके समर्थकों पर हुई कार्रवाई के बाद राजनीतिक हलचल तेज हो गई है. दरअसल प्रियंका गांधी वाड्रा कांग्रेस अध्यक्षा सोनिया गांधी से मुलाकात करने पहुंची हैं. यह मुलाकात काफी अहम मानी जा रही है.

डिप्टी CM पद से हटाए जाने के बाद सचिन पायलट की पहली प्रतिक्रया

कांग्रेस द्वारा डिप्टी सीएम पद से हटाए जाने के बाद सचिन पायलट ने ट्वीट के माध्यम से अपनी पहली प्रतिक्रिया दी है. सचिन पायलट ने ट्वीट कर कहा कि सत्य को परेशान किया जा सकता है पराजित नहीं. बता दें कि कांग्रेस ने बागी तेवर अपनाए हुए सचिन पायलट और उनके समर्थक विधायकों और मंत्रियों को पद से हटा दिया है. राजस्थान में बीते दो दिनों से राजनीतिक उथल पुथल काफी तेज है.

राज्यपाल से मिलने पहुंचे सीएम अशोक गहलोत

कांग्रेस आलाकमान द्वारा सचिन पायलट और उनके समर्थकों पर कार्रवाई करने के बाद राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत राज्यपाल कलराज से मिलने राजभवन पहुंच गए हैं. सीएम गहलोत यहां राज्यपाल को मंत्रिमंडल में बदलाव की जानकारी देंगे, साथ ही विधायकों के समर्थन का पत्र भेजेंगे.

सचिन पायलट समर्थक विधायकों पर भी हुई कार्रवाई

कांग्रेस ने सचिन पायलट के साथ-साथ उनके समर्थक विधायकों और मंत्रियों पर भी कड़ी कार्रवाई की है. कांग्रेस ने पायलट समर्थक मंत्रियों को पद से हटा दिया है. कांग्रेस ने पायलट समर्थक मंत्री विश्वेंद्र सिंह और रमेश मीणा को मंत्रिमंडल से बाहर का रास्ता दिखा दिया है.

कांग्रेस ने सचिन पायलट को डिप्टी सीएम पद से हटाया

कांग्रेस आलाकमान ने बड़ा एक्शन लेते हुए बागी तेवर अपनाए हुए सचिन पायलट को डिप्टी सीएम और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष पद से हटा दिया है. जानकारी के मुताबिक कांग्रेस के अपील के बाद सचिन पायलट ने कांग्रेस विधायक दल की बैठक में शामिल होने से इनकार दिया था. वह अशोक गहलोत के इस्तीफे की मांग कर रहे थे.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App