जयपुर: सचिन पायलट को उपमुख्यमंत्री और प्रदेश अध्यक्ष पद से हटाए जाने का असर प्रदेश में साफ तौर से देखने को मिल रहा है. सचिन पायलट को उपमुख्यमंत्री पद से हटाए जाने के बाद से राजस्थान कांग्रेस में इस्तीफों की झड़ी लग गई है. खबर है कि पार्टी में जिला स्तर से लेकर प्रदेश एनएसयूआई अध्यक्ष तक कई नेताओं ने पायलट के समर्थन में इस्तीफा दे दिया है. एनएसयूआई के प्रदेश अध्यक्ष अभिमन्यू पूनियां ने भी सचिन पायलट के समर्थन में अपने पद से त्यागपत्र दे दिया. पाली जिला से कांग्रेस प्रमुख चुन्नीलाल चड़वास ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है और टोंक जिले में पार्टी के 59 पदाधिकारियों ने इस्तीफा दे दिया है.

अभिमन्यू पूनिया ने कहा कि सचिन पायलट के समर्थन में मैंने अपने पद से त्यागपत्र दे दिया. पार्टी ने भी उनपर कार्रवाई करते हुए उन्हें यूथ कांग्रेस अध्यक्ष पद से भी हटा दिया है. पुनिया ने कहा कि मैंने पिछले छह साल प्रदेश के युवाओं की आवाज़ सचिन पायलट के साथ काम किया है और मरते दम तक सचिन पायलट के साथ रहूंगा और उनके नेतृत्व में ही काम करूंगा, इसलिए मैं एनएसयूआई के प्रदेश अध्यक्ष पद से इस्तीफा देता हूं.

अभिमन्यू पूनिया ने कहा कि हम उस मुख्यमंत्री के साथ काम नहीं कर सकते जिसने राजस्थान के जाट बिशनोई परिवार के मुखियाओं को जेल भेजने का काम किया हो. उन्होंने बताया कि यूथ कांग्रेस, एनएसयूआई, सेवादल के करीब 400-500 पदाधिकारियों ने अपने पदों से त्यागपत्र दे दिया है. गौरतलब है कि सीएम अशोक गहलोत से मतभेद के चलते बागी रुख अख्तियार कर चुके सचिन पायलट पर मंगलवार को पार्टी ने बड़ी कार्रवाई करते हुए उनसे उपमुख्यमंत्री के साथ ही प्रदेश अध्यक्ष का पद भी छीन लिया. यही नहीं पार्टी ने उनके गुट के दो मंत्रियों की भी गहलोत कैबिनेट से छुट्टी कर दी है.

CM Ashok Gehlot On Floor Test: फ्लोर टेस्ट की मांग पर बोले CM अशोक गहलोत- भगवान ने इत्ती तो अक्ल दी होगी, BJP के हाथों में खेल रहे हैं पायलट

Rajasthan Government Crisis: अशोक गहलोत सरकार के लिए संकटमोचक बने ये नेता, प्रियंका गांधी ने पर्दे के पीछे से निभाई अहम भूमिका

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर