नई दिल्ली: त्योहारों का सीजन शुरू हो चुका है, दुर्गा पूजा, दशहरा, दिवाली और फिर बिहार और पूर्वी उत्तर प्रदेश का खास त्योहार छठ महापर्व. इस दौरान लोगों को घर जाने में कोई दिक्कत ना हो और कोरोना के चलते सोशल डिस्टेंस भी बनी रहे इसलिए रेलवे ने खास इंतजाम किए हैं. भारतीय रेलवे 15 अक्टूबर से 30 नवंबर के बीच 200 स्पेशल ट्रेन चलाने का एलान किया है. हालांकि कोरोना के चलते सभी सामान्य ट्रेनें अनिश्चितकाल के लिए स्थगित रहेंगी. सामान्य ट्रेनों का परिचालन 22 मार्च से रद्द हैं. लोगों को आवागमन में हो रही दिक्कतों को देखते हुए रेलवे ने दिल्ली को देश के विभिन्न भागों से जोड़ने वाली 15 विशेष राजधानी एक्‍सप्रेस ट्रेनों ट्रेनें का संचालन 12 मई से और लंबी दूरी की 100 ट्रेनों का संचालन एक जून से शुरू किया था.

रेलवे से मिली जानकारी के मुताबिक 12 सितंबर से रेलवे 80 अतिरिक्त ट्रेनें भी चला रहा है. रेलवे ने राज्य सरकारों की जरूरतों और महामारी के हालात को देखते हुए यात्री सुविधाओं की रोज समीक्षा करने का फैसला लिया है. रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष और सीईओ वीके यादव ने इस माह के शुरुआत में बताया था कि हमने जोन के महाप्रबंधकों के साथ बैठक कर निर्देश दिया है कि वे स्थानीय प्रशासन से बातचीत कर कोरोना वायरस संक्रमण की स्थिति की समीक्षा करें.

रिपोर्ट के आने के बाद ही फैसला किया गया है कि त्यौहारी सीजन में कितनी विशेष ट्रेनें चलायी जाएं और कितने रूट पर चलाई जाएं. वी के यादव ने कहा कि हमारा अनुमान है कि करीब 200 ट्रेनें चलेंगी, लेकिन यह संख्या और ज्यादा भी हो सकती है. उन्होंने कहा था, जहां तक यात्री ट्रेनों की बात है, हम ट्रेनों की जरूरत, रेल ट्रैफिक और कोविड-19 के हालात की रोज समीक्षा करेंगे. जहां भी जरूरत होगी, हम ट्रेनें चलाएंगे. ऐसे में अगर आप त्योहार में घर जाने की सोच रहे हैं तो आपके लिए ये विशेष ट्रेन आपको आपके घर तक पहुंचाएंगी.

Govt on Migrant Laborers Death: लॉकडाउन में कितने प्रवासी मजदूर मारे गए? विपक्ष के सवाल पर सरकार ने कहा- पता नहीं

Tana Bhagat Movement: युवती की जिद के आगे झुकी रेलवे, इतिहास में पहली बार एक सवारी को लेकर 535 किमी दौड़ी राजधानी एक्सप्रेस