नई दिल्ली. कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने जम्मू कश्मीर के गवर्नर सत्यपाल मलिक के उस तंज भरे निमंत्रण पर जवाब दिया है जब मलिक ने कहा था कि राहुल जी चाहें तो मैं उनके लिए स्पेशल विमान भेज सकता हूं वो खुद आकर देख लें कि घाटी में हालात सामान्य हैं या नहीं. केरल के वायनाड दौरे पर गए राहुल गांधी ने इसके जवाब में ट्वीट किया और कहा, ” मुझे आपके एयरक्राफ्ट की जरूरत नहीं है बस आप मुझे और विपक्षी नेताओें के एक प्रतिनिधिमंडल को आजादी से घाटी में घूमने दें और आम लोगों, नेताओं और सैनिकों से बात करने दें.”

बता दें कि जम्मू कश्मीर में नरेंद्र मोदी सरकार ने आर्टिकल 370 को हटाने का फैसला ले लिया था. इसके अलावा जम्मू कश्मीर को केंद्रशासित प्रदेश बनाने का फैसला किया गया. लद्दाख को जम्मू कश्मीर से अलग कर के नए केंद्रशासित प्रदेश का दर्जा दिया गया. इस फैसले के बाद एहतियातन जम्मू कश्मीर में कर्फ्यू जैसा माहौल है. घाटी में भारी संख्या में सैनिकों की तैनाती है. हालांकि ईद के मौके पर कर्फ्यू में ढील दी गई थी. इसके अलावा सरकार लोगों के घरों तक जरूरी सामान खुद पहुंचा रही है. घाटी में अब स्कूल भी खुल गए हैं. राहुल गांधी ने जम्मू कश्मीर के हालात पर चिंता जताई थी जिसके जवाब में सूबे के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने बयान देिया था कि मैं राहुल गांधी को आमंत्रण देता हूं कि वो खुद आकर देख लें कि कश्मीर में क्या हालात हैं. मैं उनके लिए विमान भी भेज दूंगा. राहुल गांधी ने इसी पर जवाब दिया है.

राहुल गांधी ने ट्विटर पर दिया गवर्नर सत्यपाल मलिक को जवाब

“प्रिय राज्यपाल साहब, विपक्षी दलों का एक प्रतिनिधि मंडल और मैं आपके उदार निमंत्रण का स्वागत करते हुए जम्मू-कश्मीर और लद्दाख पहुंच सकते हैं. हमें एयरक्राफ्ट की जरूरत नहीं है लेकिन कृपया इतना कर दीजिएगा कि हमें आजादी के साथ घूमने दें और आम लोगों, नेताओं और सैनिकों से मिलने की इजाजत दें.” 

बता दें कि राहुल गांधी अपने संसदीय क्षेत्र  केरल के वायनाड के दौरे पर हैं. केरल इस वक्त भयानक बाढ़ से जूझ रहा है. राहुल गांधी ने बाढ़ पीड़ितों से मुलाकात की. उन्होंने ट्विटर पर लिखा कि मुझे गर्व है कि मैं वायनाड का सांसद हूं जहां के लोग इतने हिम्मत वाले हैं. 

अब देखने वाली बात यह होगी कि राहुल गांधी जम्मू कश्मीर जाते हैं या नहीं. क्या वह वाकई विपक्षी दलों के प्रतिनिधिमंडल के साथ जम्मू कश्मीर और लद्दाख का दौरा करेंगे या यह सब बस जबानी जमाखर्ची साबित होगा. इस बीच आज सुप्रीम कोर्ट ने भी जम्मू कश्मीर के मामले में दखल देने से इनकार कर दिया. कोर्ट ने कहा कि अभी सरकार को वक्त देना चाहिए. सुप्रीम कोर्ट दो हफ्ते बाद कश्मीर के हालात पर दोबारा सुनवाई करेगा.

Amit Shah Aerial Survey Of Karnataka Flood Areas: दक्षिण भारत में बाढ़ से 100 से ज्यादा लोगों की मौत, हालात का जायजा लेने कांग्रेस नेता राहुल गांधी पहुंचे वायनाड, गृहमंत्री अमित शाह जाएंगे कर्नाटक

Farooq Abdullah Omar Abdullah and Mehbooba Mufti Eid: उमर अब्दुल्ला, फारूख अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती के लिए फीकी रही ईद, घर पर पसरा रहा सन्नाटा, हर साल होता था बड़ा जलसा

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App