Friday, December 9, 2022
गुजरात नतीजे (182/182)  हिमाचल नतीजे (68/68) 
BJP - 156 BJP - 25
AAP - 05 CONG - 40 
CONG - 17  AAP - 00
OTH - 04  OTH - 03 

 Green Tea पीने के फायदे जानकर, आज से पीना कर देंगे शुरू

0
Green tea benefits: ग्रीन टी (Green tea) से होने वालों फायदों को लेकर तमाम दावे किए जाते हैं. कुछ लोग कहते हैं कि ग्रीन...

इन सवालों से समझें पूरे गुजरात चुनाव का गणित: क्यों AAP का दिल्ली मॉडल...

0
गाँधीनगर: यदि गुजरात में इस ऐतिहासिक भाजपा जीत के पीछे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नाम के अलावा कोई महत्वपूर्ण कारण है, तो वह है...

Himachal Election Result 2022: अन्य के खाते में आई 3 सीटे, जाने किसने की...

0
शिमला: हिमाचल प्रदेश में कांग्रेस ने शानदार प्रदर्शन करते हुए बीजेपी से आगे निकल गई है।कांग्रेस ने बहुमत का आंकड़ा पार कर लिया है।...

हिमाचल से जीतने के बाद कांग्रेस विधायकों की चंडीगढ़ में बैठक, राजस्थान या छत्तीसगढ़...

0
नई दिल्ली: हिमाचल प्रदेश के कांग्रेस विधायक दल की बैठक चंडीगढ़ में होगी। कांग्रेस सूत्रों के मुताबिक पहले यहां चंडीगढ़ में जीते हुए विधायक...

Himachal Election Result 2022: कांग्रेस ने मारी बाजी, जाने हर सीट के नतीजे

0
शिमला: हिमाचल प्रदेश में कांग्रेस शानदार प्रदर्शन करते हुए बीजेपी से आगे निकल गई है। कांग्रेस ने बहुमत का आंकड़ा पार कर लिया है।...

मध्य प्रदेश में राहुल गांधी ने चला बड़ा पैंतरा, आदिवासियों से कर लिया यह वादा

भोपाल। भारत जोड़ो यात्रा के दौरान राहुल गांधी ने खंडवा जीले मे आदिवासियों के जननायक टंट्या भील के जन्मस्थान पर शिरकत कर आदिवासी समाज से बड़ा वादा कर लिया है, साथ ही शिवराज के नेतृत्व मे चल रही भाजपा सरकार पर निशाना साधते हुए आदिवासियों को बड़ी राहत देने की पेशकश की है।

क्या वादा किया राहुल गांधी ने?

भले राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा को गैर राजनीतिक बताया जा रहा हो लेकिन राजनेता के लिए कुछ भी गैर राजनीतिक नहीं होता है। हम आपको बता दें कि, भारत जोड़ो यात्रा के दौरान राहुल द्वारा लगातार कांग्रेस जोड़ो की कवायदें की जा रहीं हैं। बुरहानपुर होकर मध्य प्रदेश में एंट्री के अगले दिन ही राहुल गांधी ने खांड्वा जिले में टंट्या भील के जन्मस्थान पर जाकर एक जनसभा को भी सम्बोधित किया।
राहुल ने भाजपा पर हमला बोलते हुए आदिवासी समाज से बड़ा वादा कर लिया। उन्होने कहा कि, यदि उनकी सरकार बनती है आदिवासियों के जल-जंगल-जमीन पर उनके सभी मौलिक अधिकार वापस दिए जाएंगे।

आगामी मध्य प्रदेश विधानसभा चुनावों को लेकर कांग्रेस और भाजपा लगातार आदिवासी क्षेत्रों का दौरा कर रहीं हैं, एक दिन पहले ही मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भी टंट्या भील की जन्मस्थली पर गए थे यहाँ पहुंच कर उन्होने आदिवासी समाज को पेसा एक्ट के बारे में अवगत कराते हुए उसके फायदों को गिनाया । आदिवासियों के जननायक माने जाने वाले टंट्या भील के जरिए दोनों ही दल चुनावों में बढ़त बनाने की कोशिश करेंगे।

कौन हैं टंट्या भील?

1840 में खंडला जिले की पंधाना तहलील के बडाडा गांव में टंट्या भील का जन्म हुआ था। टंट्या गुरिल्ला युद्ध के महारथी होने के साथ-साथ हथियार चलाने में भी महिर थे. वह पारंपरिक हथियार जैसे तीर, तलवार के साथ-साथ बंदूक चलाने का भी हुनर बखूबी जनाते थे, उन्होने अंग्रेजों के खिलाफ 12 वर्षों तक 24 युद्ध लड़े और सभी युद्धों मे विजय प्राप्त की, लेकिन उन्हे योजना बनाकर षडयंत्र से गिरफ्तार कर लिया गया था। टंट्या को गरीबों का मसीहा कहा जाता था। इसलिए उन्हे आदिवासी के जननायक का दर्जा प्राप्त है।

Latest news