नई दिल्ली: किसान बिल को लेकर कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने आज दिल्ली में प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कृषि कानून की आड़ में केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार पर जमकर निशाना साधा. राहुल गांधी ने कहा कि देश को 4-5 लोग ही चला रहे हैं. उन्होंने कहा कि क्रोनी कैपिटलिज्म के जरिए मीडिया को कंट्रोल कर पूरे देश को 4-5 बिजनेस घरानों ने पूरे देश को अपने हाथों में ले लिया है. राहुल गांधी ने कहा कि पिछले 6-7 सालों में देखें तो हर इंडस्ट्री में इन चार पांच लोगों की मोनोपॉली बनी हुई है.

यानी इस देश के चार पांच नए मालिक हैं. आज तक खेती में मोनोपोली नहीं थी. आज तक हिंदुस्तान के खेतों का फायदा किसानों, गरीबों और मजदूरों को जाता था क्योंकि एक ढांचा था जो इनकी रक्षा करता था जैसे मंडी थी. मोदी जी इन्हीं चार पांच लोगों के हाथों में खेती देने जा रहे हैं. ये किसान अपने लिए नहीं बल्कि आम लोगों के लिए बैठे हैं और हमें ये समझना होगा कि ये किसान हमारे लिए संघर्ष कर रहे हैं और हमें उनके साथ खड़ा होना होगा.

किसानों को ना थकाया जा सकता है ना उन्हें बेवकूफ बनाया जा सकता है, देश के किसान पीएम मोदी से ज्यादा समझदार हैं और ये कानून सरकार को वापस लेना होगा. अगर ये कानून लागू होता है तो कृषि की हालत आजादी के पहले जैसी हो जाएगी. राहुल गांधी कौन है किसान जानते हैं. भट्टा पारसौल में जब किसानों का संघर्ष था तब वहां किसानों के साथ राहुल गांधी खड़ा था.

मैं किसी से नहीं डरता, ना नरेंद्र मोदी से ना ही किसी और से डरता हूं. मैं अपने देश की रक्षा करता हूं और करता जाऊंगा. मुझे गोली मारी जा सकती है लेकिन मैं झुकुंगा नहीं. जिस चीज के लिए देश 70-80 साल पहले लड़ा था वही दोबारा हो रहा है. मेरी बाद मत मानों जब देश दोबारा गुलाम हो जाएगा तब मानना. बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा के सवालों के जवाब में राहुल गांधी ने कहा कि जेपी नड्डा मेरे प्रोफेसर नहीं हैं जो मैं उनके सवालों का जवाब दूं. उन्होंने कहा कि मैं किसानों के किसी भी सवाल का जवाब देने के लिए तैयार हूं.

Kisan Andolan Update : विज्ञान भवन पहुंचे किसान नेता, केंद्रीय मंत्री बोले- बातचीत से ही निकलेगा समाधान

Kisan Andolan Update: कृषि कानूनों पर सुप्रीम कोर्ट का एक्शन, कहा- केंद्र सरकार कानून पर रोक लगाएं नहीं तो हम लगा देंगे