नई दिल्ली. दुनिया की बड़ी ऑटोमोबाइल कंपनियों में शामिल बजाज ऑटो के चेयरमैन राहुल बजाज ने नौकरी और रोजगार को लेकर चिंता जाहिर की है। उन्होंने कहा कि कोरोना के कारण अगर अब और लॉकडाउन लगते हैं तो इससे बिजनेस, रोजगार और इकोनॉमी को बड़ा नुकसान होगा।

कंपनी के चेयरमैन के तौर पर शेयरहोल्डर्स को आखिरी बार संबोधित करते हुए बजाज ने कहा, “हमें उम्मीद करनी चाहिए की तेजी से हो रहे वैक्सीनेशन के साथ ही मास्क और सामाजिक दूरी का सख्ती से पालन करने से कोरोना की दूसरी लहर पर जल्द काबू पा लिया जाएगा।”

उन्होंने कहा, “हमें यह भी उम्मीद करनी चाहिए कि महामारी के कारण और लॉकडाउन नहीं लगेंगे। लॉकडाउन लगने पर बिजनेस, रोजगार और इकोनॉमी को बहुत नुकसान होगा।”

मालूम हो कि इस वर्ष मार्च में कोरोना के मामले दोबारा बढ़ने के बाद बहुत से राज्यों ने लॉकडाउन की घोषणा की थी। इससे बिजनेस पर दोबारा असर पड़ा था। इस वर्ष अप्रैल और मई में बजाज ऑटो की टू-व्हीलर की औसत मासिक बिक्री घटकर 93,500 यूनिट्स पर आ गई, जो पिछले फाइनेंशियल ईयर में 1,51,000 यूनिट की थी।

बजाज का कहना था, “इसके प्रमाण मौजूद हैं कि लॉकडाउन से वायरस को काबू करने में बहुत अधिक सफलता नहीं मिली है। ऐसे लॉकडाउन से इकोनॉमी को नुकसान होता है और दिहाड़ी मजदूरों की आजीविका खतरे में पड़ जाती है। इसके साथ ही शहरों से गांवों की ओर बड़ी संख्या में पलायन होता है।”

Inflation in July: आज से आपकी जेब पर पड़ेगा डाका, अमूल दूध महंगा, बैंकिंग चार्ज भी बढ़ा, जानें और क्या-क्या चीजें डालेंगी आपके बजट पर असर

Sikh Call for Love Jihad law: कथित जबरन धर्मपरिवर्तन मामले में 2 में से 1 लड़की वापस लौटी, सिख समुदाय ने की “लव जिहाद” कानून बनाने की मांग

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर