नई दिल्लीः राफेल लड़ाकू विमानों को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार और विपक्षी दलों के बीच चल रही आरोप प्रत्यारोप की लड़ाई अब सुप्रीम कोर्ट पहुंच चुकी है. जिसके बाद राफेल मामले पर सुनवाई करने के लिए सुप्रीम कोर्ट भी राजी हो गया है. सीजेआई दीपक मिश्रा ने कहा कि राफेल मामले पर सुनवाई सुप्रीम कोर्ट में अगले हफ्ते होगी. राफेल डील पर वकील एमएल शर्मा ने याचिका दाखिल की थी जिसमें उन्होंने इस डील को रद्द करने की मांग की है साथ ही उन्होंने याचिका में यह भी कहा कि भारत और फ्रांस के बीच हुई इस राफेल सौदे से भ्रष्टाचार हुई है जिसमें ये पैसा इन्हीं लोगों से वसूल किया जाए क्योंकि ये अनुच्छेद 253 के तहत संसद के माध्यम से ने नहीं किया गया.

वकील एमएल शर्मा ने सुप्रीम कोर्ट में दायर याचिका में भारत-फ्रांस के बीच हुई राफेल लड़ाकू विमानों के सौदे को रद्द करने और इस सौदे पर एफआईआर दर्ज करने के अलावा अन्य कानूनी कार्रवाई की मांग की है. शर्मा ने याचिका में कहा है कि दो देशों के बीच हुए इस सौदे से भ्रष्टाचार हुआ है और ये पैसा इन्ही लोगों से वसूला जाए क्योंकि ये सौदा अनुच्छेद 253 के तहत संसद के माध्यम से नहीं किया गया.

राफेल विमान को विश्व में सबसे ज्यादा सक्षम लड़ाकू विमान के रूप में देखा जाता है जो अनेक तरह की भूमिकाएं निभाने में सक्षम है. डबल इंजन वाला ये लड़ाकू विमान फ्रांस की कंपनी डसॉल्ट एविएशन ने बनाया है. जिसमें भारत और फ्रांस के बीच 36 राफेल विमानों की खरीद के लिए 58 हजार करोड़ रुपये का सौदा हुआ है.

विवाद के बीच फ्रांस से भारतीय वायुसेना के ग्वालियर एयरबेस पहुंचे 3 राफेल विमान, देखें तस्वीरें

राफेल डील पर कांग्रेस का नरेंद्र मोदी सरकार पर हमला- जब 126 विमानों की जरूरत थी तो सिर्फ 36 क्यों खरीदे

 

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App