नई दिल्ली. राफेल डील में एक बाद एक नए खुलासे से केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार की परेशानियां बढ़ती जा रही हैं. द इंडियन एक्सप्रेस की नई रिपोर्ट के मुताबिक, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा फ्रांस की सरकार के साथ 36 राफेल लड़ाकू विमान खरीदे जाने की घोषणा करने से ठीक 15 दिन पहले यानी मार्च, 2015 में कारोबारी अनिल अंबानी ने फ्रांस के रक्षा मंत्री जीन येवीस ले ड्रेन से उनके दफ्तर में मुलाकात की थी. इस मीटिंग में फ्रांस के रक्षा मंत्री के सलाहकार जीन क्लॉड मैलेट, औद्योगिक सलाहकार क्रिस्टोफी सोलोमन, औद्योगिक मामलों के टेक्निकल सलाहकार ज्योफ्री बुकेट भी शामिल थे. क्रिस्टोफी सोलोमन ने यूरोफ की एक डिफेंस कंपनी के उच्च अधिकारियों को अनिल अंबानी के साथ हुई इस मुलाकात को गुप्त और बेहद कम समय में प्लान की गई बैठक बताया था.

इस गुप्त बैठक के बारे जानकारी रखने वाले अधिकारी ने बताया कि अनिल अंबानी ने मीटिंग में ‘एयरबस हेलिकॉप्टर्स’ के कमर्शियल और डिफेंस हेलिकॉप्टर्स के दोनों क्षेत्रों में काम करने की इच्छा जाहिर की थी. दिलचस्प बात है कि इस मीटिंग में अनिल अंबानी से एक मेमोरंडम ऑफ अंडरस्टेंडिंग (एमओयू) का भी जिक्र किया था जो कि उस समय तक तैयार नहीं हुआ था. इस एमओयू पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दौरे के दौरान हस्ताक्षर होने थे. जब अनिल अंबानी ने फ्रांस के रक्षामंत्री के साथ मीटिंग की थी तब वहां सभी को यह मालूम था कि प्रधानमंत्री मोदी 9 से 11 अप्रैल, 2015 में फ्रांस के आधिकारिक दौरे पर होंगे.

गौरतलब है कि अनिल अंबानी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के फ्रांस दौरे के प्रतिनिधिमंडल का भी हिस्सा थे. इस दौरे में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारत और फ्रांस की सरकार के बीच 36 राफेल लड़ाकू विमान के सौदे का ऐलान किया और दोनों सरकारों ने इस संदर्भ में एक संयुक्त बयान भी जारी किया. यह महज संयोग ही हो सकता है कि अनिल अंबानी और फ्रांस के रक्षा मंत्रालय के अधिकारियों के बीच हुई इस मुलाकात के बाद बाद ही 28 मार्च 2015 को रिलायंस डिफेंस की शुरुआत हुई.

अखबार ने अपनी रिपोर्ट में यह भी दावा किया है कि इस बारे में उन्होंने फ्रांस के रक्षा मंत्रालय के आधिकारिक प्रवक्ता को मुलाकात के बारे में विस्तृत जानकारी के लिए ईमेल भेजा था जिसका जवाब उन्हें अभी तक नहीं मिला है. इसके साथ ही भारतीय कारोबारी अनिल अंबानी की रिलायंस को भी अखबार ने ईमेल भेजा था जिसका भी उन्हें जवाब नहीं मिला है.

7th Pay Commission: मौद्रिक सीमा को 5 गुना बढ़ाकर केंद्र सरकार ने दिया सरकारी कर्मचारियों को बड़ा तोहफा
Police Officials Gold Biscuits Smugglers: असम में दो पुलिस अधिकारी 3 करोड़ रुपए का सोना ले उड़े, तस्करों ने कराया मामला दर्ज

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App