चंडीगढ़: पंजाब में आम आदमी पार्टी की मुसीबतें एक बार फिर बढ़ गई हैं. सह सयोंजक बलबीर सिहं की तैनाती से नाराज पार्टी से 16 नेताओं ने इस्तीफा दे दिया है. आम आदमी पार्टी में बगावत के बाद पंजाब में एक बार फिर राजनीति गरम हो गई है. इन नेताओं ने आरोप लगाया कि डा. बलबीर सिंह तानशाह हैं. उन्होंने कहा कि वह सिर्फ अपनी मर्जी के साथ फैसला करते हैं. इनकी तैनाती के बाद कई गलत फैसले लिए हैं.

पंजाब में आम आदमी पार्टी (आप) के 16 नेताओं के इस्तीफे के बाद इन सभी ने दिल्ली के सीएम मनीष सिसोदिया को पत्र भी लिखा और बलबीर सिंह की तैनाती का विरोध जताया. इन नेताओं का कहना है कि डॉ बलबीर ने शाहकोट गौण दुहना के बारे में भी गलत फैसला लिया था, इनके द्वारा लिए गए इस गलत फैसले की वजह से पार्टी को हार मिली थी. इसी प्रकार डॉ बलबीर सिंह ने पटियाला देहाती जिला प्रधान ज्ञान सिंह मूंगो को बिना किसी कारण बताए हटाया था.

डॉ बलबीर सिंह के ये फैसले तानाशाही है. इन फैसलों की वजह से पार्टी को नुकसान हुआ है. मनीष सिसोदिया को लिखे गए पत्र में लिखा गया है कि डॉ. बलबीर सिंह ने निजी हितों के लिए पटियाला देहाती जिला प्रधान ज्ञान सिंह मूंगो को हटाया था और उनकी जगह एक ऐसे व्यक्ति को पद पर बैठा दिया है, जो पार्टी के लिए हितकारी नहीं है. इस शख्स ने 2017 में पार्टी का खुलेआम विरोध किया था.

Sacred Games controversy: सेक्रेड गेस्म विवाद पर सैफ अली खान ने तोड़ी चुप्पी, कहा- सरकार की आलोचना करने वालों की हत्या संभव

हिंदू पाकिस्तान बयान पर शशि थरूर की मुसीबतें बढ़ीं, कोलकाता कोर्ट ने भेजा समन