नई दिल्ली : गुरुवार को पुणे के सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया लैब की चौथी औप पांचवी मंजिल पर भीषण आग लग गई है. इस लैब में कोरोना की वैक्सीन के साथ-साथ BCG का टीका बन कर तैयार किया जाता है. हालांकि,अभी तक किसी भी तरह के नुकसान की कोई पुष्टी नहीं की गई है. आग की खबर मिलने पर दमकल की कई गाड़ियां घटना स्थल पर पहुंच चुकी हैं. उससे पहले बिल्डिंग से चार कर्मचारियों को सुरक्षित निकाला गया है. फिलहाल, आग पर काबू पा लिया गया है.

एक न्यूज एजेंसी के मुताबिक, सीरम इंस्टीट्यूट के मंजरी प्लांट में एक अंडर कंस्ट्रक्शन बिल्डिंग में आग लगी है. लेकिन, वैक्सीन और वैक्सीन मैन्युफैक्चरिंग प्लांट पूरी तरह सुरक्षित है. वैक्सीन प्रोडक्शन पर भी कोई असर नहीं पड़ेगा. गौरतलब है कि, सीरम इंस्टीट्यूट में ही ऑक्सफोर्ड और एस्ट्राजेनेका की कोरोना वैक्सीन कोवीशील्ड बनाई जा रही है. लेकिन जिस हिस्से में आग लगी है वो वैक्सीन कैम्पस से पहले का हिस्सा है.

बता दें कि सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया को वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन (WHO) से मान्यता प्राप्त है. सीरम इंस्टीट्यूट की वैक्सीन दुनिया के अलग-अलग 170 देशों में सप्लाई होती हैं. यह कंपनी पोलियो वैक्सीन के साथ-साथ डिप्थीरिया, टिटनस, पर्ट्युसिस, HIV, BCG, आर-हैपेटाइटिस बी, खसरा, मम्प्स और रूबेला के टीके भी बनाती है. फिलहाल यहां कोरोना का टीका बनकर तैयार किया जा रहा है और लाखों डोज स्टोर करके रखे जा रहे हैं. जानकारी के लिए बता दें कि सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया ने कई रिकॉर्ड अपने नाम दर्ज किए हुए हैं. दुनिया में इस लैब को काफी मान्यता प्राप्त है. वहीं सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया अब तक  1.5 अरब डोज बेच चुकी है. एक आंकड़े के मुताबिक, दुनिया के 60% बच्चों को सीरम की एक वैक्सीन जरूर लगी है.

Kisan Andolan Update : किसानों का हल्ला बोल जारी, गणतंत्र दिवस पर दिल्ली में ही निकालेंगे ट्रैक्टर रैली, पुलिस ने दिया KMP एक्सप्रेस-वे का ऑप्शन

IFFCO Ranked Number One : भारत के लिए गौरव का क्षण, दुनिया की पहली शीर्ष सहकारी संस्था बनी इफको

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर