नई दिल्ली: पीएम नरेंद्र मोदी ने रविवार को 8.5 करोड़ किसानों के खातों में प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के तहत 2 हजार रूपये की छठी किश्त जारी करते हुए 1 लाख करोड़ रुपए की वित्त पोषण सुविधा का शुभारंभ किया. प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के तहत 8.55 करोड़ किसानों के खातों में 17 हजार करोड़ रूपये ट्रांसफर किए गए. गौरतलब है कि पीएम किसान योजना के तहत सभी पात्र किसान परिवारों को सालाना 6 हजार रुपए की राशि दी जाती है. करीब दस करोड़ किसानों को इसका फायदा मिला है. आज जारी की गई किश्त के बाद से अबतक किसानों को करीब 92 हजार करोड़ रुपए भेजे जा चुके हैं.

पीएम मोदी ने कहा कि प्राइमरी कृषि को-ऑपरेटिव संस्थानों को केवल 1 पर्सेंट ब्याज दर पर 1128 करोड़ रुपए ऋण की स्वीकृति दी जी जाएगी. पीएाम मोदी ने अपने भाषण में कहा कि आज हलषष्टी है, भगवान बलराम की जयंती है. सभी देशवासियों को, विशेषतौर पर किसान साथियों को हलछठ की, दाऊ जन्मोत्सव की, बहुत-बहुत शुभकामनाएं. उन्होंने आगे कहा कि हलषष्टी और भगवान बलराम की जयंति के बेहद पावन अवसर पर देश में कृषि से जुड़ी सुविधाएं तैयार करने के लिए एक लाख करोड़ रुपये का विशेष फंड लॉन्च किया गया है. इससे गांवों-गांवों में बेहतर भंडारण, आधुनिक कोल्ड स्टोरेज की चेन तैयार करने में मदद मिलेगी. इसके साथ-साथ साढ़े 8 करोड़ किसान परिवारों के खाते में, पीएम किसान सम्मान निधि के रूप में 17 हजार करोड़ रुपए ट्रांस्फर हुए हैं.

पीएम मोदी ने कहा कि दशकों से ये मांग और मंथन चल रहा था कि गांव में उद्योग क्यों नहीं लगते. अब आत्मनिर्भर भारत अभियान के तहत किसान और खेती से जुड़े इन सारे सवालों के समाधान ढूंढे जा रहे हैं. एक देश, एक मंडी के जिस मिशन को लेकर बीते 7 साल से काम चल रहा था, वो अब पूरा हो रहा है. पहले e-NAM के ज़रिए, एक टेक्नॉलॉजी आधारित बड़ी व्यवस्था बनाई गई. अब कानून बनाकर किसान को मंडी के दायरे से और मंडी टैक्स के दायरे से मुक्त कर दिया गया. अब किसान के पास अनेक विकल्प हैं.

अब हम उस स्थिति की तरफ बढ़ रहे हैं, जहां गांव के कृषि उद्योगों से फूड आधारित उत्पाद शहर जाएंगे और शहरों से दूसरा औद्योगिक सामान बनकर गांव पहुंचेगा. यही तो आत्मनिर्भर भारत अभियान का संकल्प है, जिसके लिए हमें काम करना है. 2 दिन पहले ही, देश के छोटे किसानों से जुड़ी एक बहुत बड़ी योजना की शुरुआत की गई है, जिसका आने वाले समय में पूरे देश को बहुत बड़ा लाभ होने वाला है. देश की पहली ‘किसान रेल’ महाराष्ट्र और बिहार के बीच में शुरु हो चुकी है. किसानों से जुड़ी जितनी भी योजनाएं हैं, जितने भी रिफॉर्म हो रहे हैं, इनके केंद्र में हमारा छोटा किसान है. यही छोटा किसान है, जिस पर सबसे ज्यादा परेशानी आती रही है. इस छोटे किसान तक सरकारी लाभ पूरी तरह पहुंचे, ये हमारा संकल्प है.

पीएम ने कहा किसान रेल’ पूरी तरह से वातानूकुलित है। ये एक तरह से पटरी पर दौड़ता कोल्ड स्टोरेज है. इससे शहर के लोगों को ताजी वस्तुएं मिल सकेंगी और किसानों को अपनी फसल स्थानीय मंडियों पर मजबूरन बेचना नहीं पड़ेगा. किसान रेल’ पूरी तरह से वातानूकुलित है। ये एक तरह से पटरी पर दौड़ता कोल्ड स्टोरेज है. इससे शहर के लोगों को ताजी वस्तुएं मिल सकेंगी और किसानों को अपनी फसल स्थानीय मंडियों पर मजबूरन बेचना नहीं पड़ेगा.

Sushant Singh Rajput case: रिया चक्रवर्ती ईडी की पूछताछ में नहीं कर रही सहयोग! याद नहीं आ रहा कहकर टाल रही हैं सवाल

Coronavirus India Case: भारत में कोरोना विस्फोट, कुल मरीजों का आंकड़ा 20 लाख के पार, 24 घंटों में रिकॉर्ड बढोतरी