नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को राखी बांधने वाली मुंहबोली बहन शरबती देवी का 103 साल की उम्र में निधन हो गया. शरबती देवी मूल रूप से गुजरात की रहने वाली थीं और अब धनबाद में रहती थीं. उनका अंतिम संस्कार रविवार को किया जाएगा. शरबती देवी ने पिछले साल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर राखी बांधने की इच्छा जताई थी. यह पत्र मिलने के बाद पीएम मोदी बहुत खुश हुए थे और राखी बांधने की इच्छा पर आभार जताया था.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने प्रोटोकॉल तोड़कर शरबती देवी को अपने आधिकारिक आवास पर बुलाकर राखी बंधवाई थी. मामला अगस्त 2017 का है. इस दौरान राखी के अवसर पर कई स्कूल की बच्चियों ने पीएम मोदी के साथ रक्षाबंधन मनाया था और फिर उसके बाद शरबती ने पीएम को राखी बांधी थी. पीएम को राखी बांधकर शरबती काफी खुश हुई थीं जो कि उनके चेहरे पर तस्वीरों में साफ दिखाई दे रही थी.

दरअसल शरबती देवी के भाई की मृत्यु 50 साल पहले हो गई थी. वे अकसर अपने भाई को बहुत याद करती थीं. रक्षाबंधन पर उन्हें अपने भाई की बहुत याद आती थी. इसीलिए, पिछले साल रक्षाबंधन पर उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर राखी बांधने की इच्छा जताई थी. पीएम मोदी भी उनकी इच्छा का सम्मान रखते हुए प्रोटोकॉल तोड़कर राखी बंधवाने शरबती देवी को दिल्ली बुलाया था. देश के विभाजन से पहले पैदा हुईं शरबती की शादी धनराज अग्रवाल नाम के एक व्यक्ति के साथ हुई थी. शरबती देवी के पति की भी मृत्यु हो चुकी है. उनके नौ बच्चे थे जिनमें से दो की मृत्यु हो चुकी है.

मिलिए PM मोदी की उस मुंहबोली पाकिस्तानी बहन से, जो पिछले 20-25 सालों से बांध रही हैं राखी

सलाखें: PM मोदी की बहन को किससे है जान का खतरा ?

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App