Friday, December 9, 2022
गुजरात नतीजे (182/182)  हिमाचल नतीजे (68/68) 
BJP - 156 BJP - 25
AAP - 05 CONG - 40 
CONG - 17  AAP - 00
OTH - 04  OTH - 03 

 Green Tea पीने के फायदे जानकर, आज से पीना कर देंगे शुरू

0
Green tea benefits: ग्रीन टी (Green tea) से होने वालों फायदों को लेकर तमाम दावे किए जाते हैं. कुछ लोग कहते हैं कि ग्रीन...

इन सवालों से समझें पूरे गुजरात चुनाव का गणित: क्यों AAP का दिल्ली मॉडल...

0
गाँधीनगर: यदि गुजरात में इस ऐतिहासिक भाजपा जीत के पीछे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नाम के अलावा कोई महत्वपूर्ण कारण है, तो वह है...

Himachal Election Result 2022: अन्य के खाते में आई 3 सीटे, जाने किसने की...

0
शिमला: हिमाचल प्रदेश में कांग्रेस ने शानदार प्रदर्शन करते हुए बीजेपी से आगे निकल गई है।कांग्रेस ने बहुमत का आंकड़ा पार कर लिया है।...

हिमाचल से जीतने के बाद कांग्रेस विधायकों की चंडीगढ़ में बैठक, राजस्थान या छत्तीसगढ़...

0
नई दिल्ली: हिमाचल प्रदेश के कांग्रेस विधायक दल की बैठक चंडीगढ़ में होगी। कांग्रेस सूत्रों के मुताबिक पहले यहां चंडीगढ़ में जीते हुए विधायक...

Himachal Election Result 2022: कांग्रेस ने मारी बाजी, जाने हर सीट के नतीजे

0
शिमला: हिमाचल प्रदेश में कांग्रेस शानदार प्रदर्शन करते हुए बीजेपी से आगे निकल गई है। कांग्रेस ने बहुमत का आंकड़ा पार कर लिया है।...

राष्ट्रपति चुनाव 2022: शिवसेना ने एनडीए उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू को समर्थन पर तोड़ी चुप्पी, संजय राउत बोले…

मुंबई। देश में सर्वोच्च सवेंधानिक पद राष्ट्रपति के लिए चुनाव होने जा रहा है. इस चुनाव में सत्तापक्ष एनडीए ने अपनी उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू को मैदान में उतारा है. वहीं विपक्षी दल यूपीए ने यशवंत सिन्हा को उम्मीदवार बनाया है। इसी बीच महाराष्ट्र में उद्धव सरकार गिरने के बाद से शिवसेना ने राष्ट्रपति चुनाव के लिए एनडीए (NDA) उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू (Droupadi Murmu) का समर्थन दे दिया है. इस मामले पर शिवसेना नेता संजय राउत (Sanjay Raut) ने कहा है कि हम एनडीए में नहीं हैं, लेकिन द्रौपदी मुर्मू को समर्थन कर रहे है. ये कोई राजनीतिक समर्थन नहीं है. इससे पहले भी ऐसे ही शिवसेना ने प्रतिभा पाटिल (Pratibha Patil) और प्रणब मुखर्जी (Pranav Mukerjee) का भी समर्थन किया था.

संजय राउत ने क्या कहां?

द्रौपदी मुर्मू के मातोश्री आने पर संजय राउत ने कहा कि उन्हें नहीं पता है कि वो उद्धव ठाकरे से मिलने के लिए मातोश्री आ रही हैं या नहीं. इसके अलावा उन्होंने महाराष्ट्र में आई भीषण बाढ़ पर बात करते हुए कहा कि महाराष्ट्र में 12 दिन बीत गए लेकिन सरकार काम नहीं कर रही है. ये सरकार अवैध है. उन्होंने सवाल करते हुए कहा कि 12 दिनों से महाराष्ट्र के राज्यपाल कहां है? महाराष्ट्र में बाढ़ जैसे गंभीर हालात बने हुए हैं.

शिवसेना ने विपक्ष को दिया झटका

बता दें कि इससे पहले भी संजय राउत ने कहा था कि द्रौपदी मुर्मू का समर्थन करने का मतलब बीजेपी का समर्थन करना नहीं है. हम आदिवासी नेता के नाम पर द्रौपदी मुर्मू को समर्थन दे रहे हैं. इसके अलावा जनभावना को देखते हुए भी यह फैसला लिया गया है. बता दें कि विपक्ष के उम्मीदवार को लेकर जब मीटिंग हुई थी, तब उसमें शिवसेना ने भी हिस्सा लिया था. लेकिन अब उसका रुख विपक्षी एकता को भी एक झटके जैसा है.

शिवसेना ने ऐसे ही समर्थन नहीं दिया

दरअसल, उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) ने सांसदों की मीटिंग बुलाई थी. इसमें 19 लोकसभा सांसदों में से 12 ही पहुंचे थे और 7 गायब थे. यही नहीं मीटिंग में शामिल सांसदों ने भी ठाकरे पर दबाव बनाया था कि पार्टी को द्रौपदी मुर्मू (Droupadi Murmu) का समर्थन देना चाहिए. इस पर उद्धव ठाकरे ने विचार करने की बात कही थी. अब संजय राउत (Sanjay Raut) के बयान ने साफ कर दिया है कि पार्टी बचाने के लिए शिवसेना (Shiv Sena) को अपने रुख में बदलाव लाना पड़ा है.

Sri Lanka Crisis: रानिल विक्रमसिंघे बनाए गए कार्यवाहक राष्ट्रपति, फिर सड़कों पर उतरी जनता

Latest news