अहमदाबाद. विश्व हिंदू परिषद के पूर्व अध्यक्ष प्रवीण तोगड़िया ने गुरुवार को अपना अनिश्चितकालीन अनशन तोड़ दिया. इस दौरान उन्होंने पीएम नरेंद्र मोदी समेत केंद्र सरकार पर जमकर निशाना साधा था. तोगड़िया ने मोदी सरकार पर राम मंदिर के मुद्दे पर वादाखिलाफी का आरोप लगाया. वीएचपी के अध्यक्ष पद से हटने के बाद प्रवीण तोगड़िया राममंदिर निर्माण को लेकर माहौल बनाने की कोशिश में लगे थे. तोगड़िया ने अहमदाबाद में राम मंदिर की मांग को लेकर मंगलवार से अनिश्चितकालीन उपवास शुरू किया था.

तोगड़िया ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर वादाखिलाफी के आरोप लगाते हुए कहा बीजेपी ने हमसे दावा किया कि एक बार हम संसद में बहुमत में आएंगे तो हम विधेयक पास कर राम मंदिर निर्माण का मार्ग प्रशस्त करेंगे. लेकिन वो वादाखिलाफी कर रहे हैं. उपवास स्थल पर अपने समर्थकों को संबोधित करते हुए तोगड़िया ने कहा कि भाजपा सरकार को राम मंदिर, समान नागरिक संहिता और अनुच्छेद 370 संबंधी अपने वादे को पूरा करना चाहिए.

बता दें कि 62 वर्षीय सर्जन से तेजतर्रार नेता बने तोगड़िया ने धर्म गुरुओं से फलों का जूस पीकर अपना उपवास तोड़ा. अखिलेश्वर दास महाराज के नेतृत्व में धार्मिक नेताओं ने उनसे उपवास खत्म करने का अनुरोध किया था. तोगड़िया ने 14 अप्रैल को केंद्र की मोदी सरकार पर अयोध्या में राम मंदिर निर्माण समेत हिन्दुओं के अन्य मुद्दों की उपेक्षा का आरोप लगाते हुए 17 अप्रैल से अनशन पर बैठने की घोषणा की थी.

संघ की महिला विंग ने लांच की अपनी वेबसाइट

विश्व हिंदू परिषद से प्रवीण तोगड़िया की छुट्टी, आलोक कुमार ने ली जगह

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App