बेंगलुरु. कर्नाटक विधानसभा चुनाव से पहले सभी राजनीतिक दल धर्म और जाति के मुद्दे पर जमकर रोटियां सेंक रहे हैं. यहां पर धर्म और जाति को लेकर ऐसा पेचीदा कॉकटेल तैयार किया गया है जिसमें उलझनें पैदा हो रही हैं. मंगलुरु के बंटोल इलाके में कई ऐसे घर मिले जहां घरों के बाहर लिखा था कि ‘ये हिंदू का घर है और कांग्रेस का इस घर में प्रवेश करना मना है’. जानकर हैरानी जरूर होगी लेकिन ये सच है. घरों के बाहर इसी तरह के पोस्टर पटे पड़े हैं. इन पोस्टर्स में कांग्रेस को हिदायत दी गई है कि किसी खास समुदाय के घर में प्रेवश न करें. हैरानी की बात ये है कि ये इलाका कांग्रेस पार्टी से विधायक रामनाथ राय का है.

ऐसे में इस तरह के पोस्टर कांग्रेस के लिए माहौल खराब कर सकते हैं. इस मामले को लेकर राजनीति भी गरमा गई है. बताया जा रहा है कि ये पूरा मामला कुछ साल पहले हुए एक लड़की के धर्म परिवर्तन से जुड़ा हुआ है. एक हिंदू लड़की ने घर से भागकर अपने प्रेमी से शादी कर ली थी और बाद में इस्लाम धर्म को कबूल किया था. इसके बाद परिवार वालों और इलाके के लोगों ने ये आरोप लगाया था कि कांग्रेस के नेताओं ने इस लड़की का जबरदस्ती धर्म परिवर्तन कराया है. इस घटना के बाद इलाके के लोगों ने तय कर लिया कि अगले विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को सबक सिखाना है.

इलाके के लोगों ने कांग्रेस पर तुष्टिकरण की राजनीति करने का आरोप लगाते हुए उन्हें अपने घरों में प्रवेश न करने की हिदायत दी है. कर्नाटक में 12 मई को विधानसभा चुनाव होने हैं लेकिन यहां इस बार का चुनाव धर्म और जाति के पेचीदा कॉकटेल में फंस कर रह गया है. दरअसल कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कर्नाटक में चुनाव अभियान की शुरूआत मंदिर में मात्था टेकर की. इसके बाद राज्य के मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के धर्म को लेकर एक बयान दिया. जिसमें उन्होंने कहा कि अमित शाह कहते हैं कि मैं हिंदू नहीं हूं. लेकिन खुद अमित शाह हिंदू नहीं है. वो जैन समाज से ताल्लुक रखते हैं. अगर वो हिंदू हैं तो ये बात वो सभी लोगों के सामने स्वीकार करें और कहें कि वो हिंदू हैं जैन नहीं.

कर्नाटक विधानसभा चुनाव 2018: येदियुरप्पा के बेटे को नहीं मिला वरुणा सीट से टिकट, समर्थकों ने जमकर काटा हंगामा

कर्नाटक ओपिनियन पोल: राज्य में त्रिशंकु विधानसभा के संकेत, मुख्यमंत्री के रूप में सिद्धारमैया पहली पसंद

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App