नई दिल्लीः कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने बुधवार को जर्मनी में मोदी सरकार पर जमकर हमला बोला. हैम्बर्ग स्थित बूसेरियस समर स्कूल में स्टूडेंट्स को संबोधित करते हुए उन्होंने नोटबंदी, जीएसटी, मॉब लिंचिंग जैसे मामलों को लेकर पीएम नरेंद्र मोदी की अगुआई वाली बीजेपी सरकार पर जोरदार निशाना साधा. उन्होंने जर्मनी में कहा कि भारत में बेरोजगारी के चलते मॉब लिंचिंग जैसी घटनाएं बढ़ रही हैं. नोटबंदी और जीएसटी ने कारोबारियों के कमर तोड़ दी जिनसे उन्हें अपने गांव वापस लौटना पड़ा. इससे लोग नाराज हैं, लिंचिंग के बारे में जो भी कुछ हम सुनते हैं वो इसी का परिणाम है. कांग्रेस अध्यक्ष के भारत से बाहर मोदी सरकार पर हमला बोलने के बाद बीजेपी नेता भी उन पर हमलावर हो गए हैं.

बीजेपी नेता बाबुल सुप्रियो ने ट्वीट किया कि राहुल गांधी ने अपने देश के खिलाफ विदेशों में बात कर भारत की छवि खराब की है. उन्होंने कहा कि विदेशी धरती पर राहुल द्वारा भारत के अपमान की मैं कड़ी निंदा करता हूं. वहीं भारतीय जनता पार्टी के नेता तजिंदर पाल सिंह बग्गा ने मॉब लिंचिंग को लेकर ट्वीट किया कि जैसे राहुल गांधी के पिता ने 1984 में सिखों की मॉब लिंचिंग कराई थी. वहीं मजिंदर एस. सिरसा ने इस मामले को लेकर लिखा कि जब रगों में मॉब लिंचिंग का खून हो तो राहुल गांधी ISIS को जायज ही ठहराएंगे.

वहीं पीएम मोदी से गले मिलने पर राहुल गांधी ने जर्मनी में कहा कि अहिंसा भारत का भारत दर्शन है और भारतीय होने का सार है. मेरे खिलाफ पीएम मोदी नफरत फैलाने वाली टिप्पणियां कर रहे हैं मैंने उनके प्रति प्रेम और स्नेह दिखाया. हालांकि पीएम मोदी को लगे लगाना मेरी ही पार्टी के कुछ लोगों मेरा विरोध किया. 

यह भी पढ़ें- ब्रिटेन-जर्मनी के दौरे पर गए राहुल गांधी ने जर्मन मंत्री नील्स एन्नेन से मिलकर की केरल की बाढ़ और जीएसटी पर चर्चा

राफेल डील पर मोदी सरकार के खिलाफ राहुल गांधी की कांग्रेस का एक महीने का धरना-प्रदर्शन 25 अगस्त से

 

 

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App