नई दिल्ली. आईएएस, आईपीएस बनाने की फैक्ट्री के नाम से मशहूर दिल्ली के मुखर्जी नगर, नेहरू विहार और गांधी विहार में किराए के कमरों में रहकर संघ लोक सेवा आयोग- यूपीएससी की सिविल सर्विसेज परीक्षा की तैयारी कर रहे छात्रों के एक प्रदर्शन पर पुलिस ने लाठीचार्ज किया जिसमें युवा साहित्य अकादमी पुरस्कार विजेता साहित्यकार नीलोत्पल मृणाल गंभीर रूप से जख्मी हो गए. मुखर्जी नगर और आस-पास के इलाके के ये छात्र बगैर सुविधा के मनमाना किराया, प्रॉपर्टी डीलरों और स्थानीय लोगों द्वारा यहां रहकर पढ़ाई कर रहे बिहार, यूपी जैसे दूसरे राज्यों के लड़कों की आए दिन पिटाई को लेकर पुलिस के पास शिकायत दर्ज कराने गए थे पर पुलिस ने उन्हें ही पीट दिया.

मिली जानकारी के अनुसार मुखर्जी नगर इलाके में पिछले चार-पांच दिन से प्रॉपर्टी डीलरों और छात्रों के बीच किराया और सुविधा को लेकर तकरार चल रही थी और इस दौरान कुछ बाहरी छात्रों को लोकल गुंडों ने पीट दिया. छात्रों की लोकल लोगों द्वारा पिटाई की वारदातों के क्रम में 10 अगस्त को एक प्रॉपर्टी डीलर और छात्र के बीच झड़प हो गई और डीलर ने छात्र को पीट दिया क्योंकि वो लोकल था.

छात्र थाने में शिकायत करने गया तो पुलिस ने उसकी नहीं सुनी. इस पर थाने पर छात्र जमा हो गए और एफआईआर दर्ज करने और कार्रवाई की मांग करने लगे. इसी बीच छात्रों की उग्र भीड़ पर पुलिस ने लाठियां बरसा दी और इस लाठीचार्ज में डार्क हॉर्स किताब के लेखक साहित्यकार नीलोत्पल मृणाल जख्मी हो गए जिन्हें पुलिस ने थाने में भी बिठाए रखा. बॉलीवुड के गीतकार राजशेखर ने भी दिल्ली पुलिस और मकान मालिकों पर गुंडागर्दी का आरोप लगाते हुए इस लीठाचार्ज की निंदा की है.

UPSC Civil Services Exam 2018: सरकार ने यूपीएससी सिविल सर्विस परीक्षा की अधिकतम उम्र सीमा 32 साल तय की

सोशल मीडिया पर चल रही खबरों के मुताबिक मुखर्जी नगर, नेहरू विहार और गांधी विहार में किराया व्यवस्था को रेगुलेट करने और लोकल लोगों की गुंडई से बाहरी छात्रों की सुरक्षा की मांग को लेकर शनिवार की शाम नेहरू विहार में कैंडल मार्च का भी आयोजन किया गया है. सोशल मीडिया पर लिखे जा रहे पोस्ट से ये पता चला है कि छात्रों की उग्र भीड़ में से किसी ने एक गाड़ी का शीशा तोड़ दिया जिसके बाद पुलिस ने लाठीचार्ज किया.

UPSC एग्जाम में बड़ा बदलाव करने की तैयारी में मोदी सरकार, ये हो सकता है नया पैटर्न

मुखर्जी नगर, नेहरू विहार, गांधी विहार इलाके में यूपीएससी और पीसीएस यानी राज्यों की सिविल सर्विसेज परीक्षा की तैयारी कराने वाले कई कोचिंग हैं जहां पढ़ने वाले छात्र आस-पास के इलाके में किराए पर रहते हैं. यूपीएसएस की तैयारी करने वाले इन छात्रों का आरोप है कि बिना खिड़की के कमरों में रहने के हजारों रुपए किराए लिए जाते हैं लेकिन रसीद नहीं दी जाती, बिजली का बिल सरकारी रेट के बदले मनमाना लिया जाता है जिस पर सरकार को लगाम लगानी चाहिए.

मुखर्जी नगर से UPSC कोचिंग संस्थानों को हटाने के खिलाफ छात्र पहुंचे दिल्ली हाईकोर्ट

पहले मारा, फिर बिठाया। दिल्ली पुलिस को लगता है कि मार के सब ठीक किया जा सकता है। छात्रों को दुरुस्त किया जा सकता। साथियों इस व्यवस्था से लड़ना जारी रखिये….जय हो

Posted by Nilotpal Mrinal on Friday, 10 August 2018

सवाल ये कतई नही है कि उन्होंने हमें मारा, हमारे छात्र भाईयों को मारा, साथियों को मारा, और कसम से बेरहमी से मारा…सवाल…

Posted by Nilotpal Mrinal on Friday, 10 August 2018

नेहरू विहार और मुखर्जीनगर में आये दिन होने वाली छेड़छाड़, हिंसात्मक मारपीट, गाँली गलौंच से तंग आकर अपनी पढ़ाई को छोड़कर मजबूरन आज छात्र को सड़क पर उतरना पड़ा, इस उम्मीद से कि पुलिस की सहायता से, बातचीत से इस समस्या का कोई हल निकाला जा सकेगा। परन्तु पुलिस ने अपने चरित्र के अनुसार चरित्रहीन वर्ताव किया और कर दिया लाठी चार्ज और उठा ले गई पॉच-छः दोस्तों को। इन दस वाई दस के मकानों में, बिना सूरज की रोशनी और दिल्ली की प्रदूषित हवा में रहने का कोई सौक नहीं है साहब, और ऊपर से आप बर्बरता दिखायेगें हम पर। यहॉ रहने वाला छात्र समझदार है परन्तु इसकालयह अर्थ निकाला जाये कि वो कायर है, वह अपनी आवाज नहीं ऊठा पायेगा तो भूल में है आप। हम करोंड़ों की आवाज ऊठा सकते हैं तो अपनी भी उठा ही लेंगे। सुने Nilotpal Mrinal को मिलते हैं कल- 11-4 सेन्ट्रल पार्क, नेहरू विहार

Posted by Lucky Singh on Friday, 10 August 2018

ये बहुत ग़लत है। दिल्ली पुलिस/मकान मालिकों की इस बर्बरता के ख़िलाफ़ हम खुलकर Nilotpal और बाक़ी दोस्तों के साथ हैं।

Posted by Raj Shekhar on Friday, 10 August 2018

ये Nilotpal Mrinal जी है, जिन्हें 2016 में इनके क्रांतिकारी उपन्यास “डार्क हॉर्स” के लिए युवा साहित्य अकादमी पुरस्कार से…

Posted by विकास कुमार मीणा on Friday, 10 August 2018

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App