नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को लोकसभा में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर बहस का जवाब देते हुए धन्यवाद भाषण दिया. इस दौरान उन्होंने विपक्ष से संसद को सही तरीके से चलने देने की अपील करते हुए कहा कि हमें आगे बढ़ने का एक भी मौका गंवाना नहीं चाहिए. इस दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जलसंकट का जिक्र करते हुए कहा कि भारत ने पानी को लेकर जितनी भी पहल की है वो सारी पहल बाबा साहेब बाबा भीम राव अंबेडकर ने की हैं. लेकिन जैसा मैंने पहले कहा शायद एक ऊंचाई पर जाने के बाद लोगों को दिखता नहीं है.

पीएम मोदी ने आगे कहा कि ‘सरदार सरोवर बांध सरदार पटेल का सपना था, लेकिन इस डैम पर काम में देरी होती रही. गुजरात के मुख्यमंत्री के रूप में, मुझे इस परियोजना के लिए उपवास तक करना पड़ा था. NDA के सत्ता में आने के बाद इसके काम की गति में वृद्धि हुई और आज इससे लोगों को लाभ हो रहा है. पानी की तकलीफ राजस्थान और गुजरात के लोग ज्यादा जानते हैं और इसी वजह से हमने जल शक्ति मंत्रालय बनाया है. जल संचय पर हमें बल देना पड़ेगा न हीं तो जल संकट बढ़ता चला जाएगा’

पीएम मोदी ने आगे कहा कि ‘हमने इस बार जल शक्ति मंत्रालय बनाया है. जल संकट को हमने गंभीरता से लेना होगा. जल संचय पर हमने पूरा ध्यान देना होगा. पानी बचाना है, ये काम करके हम सामान्य मानवी की जिंदगी को बचा सकते हैं. पानी का संकट दूर करके हम गरीबों और माताओं को बड़ी सहुलियत दे सकते हैं. गौरतलब है कि मंगलवार को पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने भी जलसंकट की गंभीरता को लेकर ट्वीट किया था जिसमें उन्होंने एक चिन्नई वॉटर रिजर्व की एक तस्वीर शेयर की थी जिसमें साल 2018 और 2019 के बीच पानी की कमी साफ-साफ नजर आ रही थी.

गौरतलब है कि भारत का छठा सबसे बड़ा शहर चेन्नई इन दिनों भीषण जलसंकट से गुजर रहा है. गर्मी की वजह से चेन्नई में रहने वाले चार करोड़ 60 लाख लोग पानी की किल्लत से जूझ रहे हैं. लोगों तो पानी के लिए घंटों सरकारी टैंकरों का इंतजार करना पड़ रहा है. चेन्नई में पानी की किल्लत को लेकर विरोध प्रदर्शन होना शुरू हो गया है. पिछले बुधवार को कोयंबटूर में करीब 300 लोगों को पानी के विरोध के चलते गिरफ्तार किया गया था.

PM Narendra Modi Lok Sabha Speech: संसद के बजट सत्र में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के अभिभाषण पर बहस का लोकसभा में जवाब दे रहे हैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

Niti Ayog Health Index Report: स्वास्थ्य सुविधाओं के लिहाज से यूपी की हालत सबसे खराब, केरल की सबसे अच्छी, नीति आयोग के हेल्थ इंडेक्स रिपोर्ट में खुलासा

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App