नई दिल्ली. भारत का मून मिशन चंद्रयान 2 के लैंडर विक्रम का चांद की चतह पर उतरने से चंद किलोमीटर की दूरी पर ही इसरो से संपर्क टूट गया है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चंद्रयान 2 की लैंडिंग के वक्त इसरो वैज्ञानिकों के साथ मौजूद थे. उन्होंने वैज्ञानिकों का हौसला बढ़ाते हुए हिम्मत रखने के लिए कहा है. उन्होंने कहा कि जिंदगी में उतार चढ़ाव आते रहते हैं, आगे भी हमारी यात्रा जारी रहेगी. हमें निराश नहीं होना चाहिए. हमें इसरो के वैज्ञानिकों पर गर्व है. भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन इसरो ने आधिकारिक जानकारी देते हुए बताया कि चंद्रयान 2 के विक्रम लैंडर का संपर्क चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव की सतह पर उतरने से 2.1 किलोमीटर पहले ही संपर्क टूट गया. इसरो वैज्ञानिक फिलहाल आंकड़ों का अध्ययन कर रहे हैं.

प्रधानमंत्री शुक्रवार देर रात चंद्रयान 2 के लैंडर विक्रम के चांद के दक्षिणी ध्रुव पर उतरने के ऐतिहासिक पलों का गवाह बनने इसरो पहुंचे. बेंगलुरु के इसरो केंद्र में पीएम मोदी अंतरिक्ष वैज्ञानिकों के साथ लाइव लैंडिंग देख रहे थे. इस दौरान पीएम मोदी के साथ कुछ बच्चे भी मौजूद थे जिन्हें विशेष तौर पर लाइव लैंडिंग देखने के लिए आमंत्रित किया गया था.

संपर्क टूटने के बाद पीएम मोदी ने कहा कि भारत को अपने वैज्ञानिकों पर बहुत गर्व है. उन्होंने अपना पूरा प्रयास किया और हम उनपर हमेशा गर्व करेंगे. इसरो के चेयरमैन हमें चंद्रय़ान 2 पर अपडेट दे रहे हैं. हमें अभी भी संपर्क जुड़ने की आशा है. हमारा स्पेस प्रोग्राम जारी रहेगा और हमेशा कड़ी मेहनत के साथ काम करते रहेंगे.

फिलहाल सभी की उम्मीदें इसरो से टिकी हुई है. अभी तक भारत के मून मिशन के फेलियर की बात नहीं कही गई है. इसरो के वैज्ञानिक आंकड़ों का अध्ययन कर रहे हैं. जल्द ही इसके बारे में अपडेट दे दिया जाएगा.

Chandrayaan 2 Signal Lost: आखिरी क्षणों में चंद्रयान मिशन-2 का संपर्क टूटा, इसरो सेंटर में पसरे मातम के बीच पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा- हिम्मत रखें, देश आपके साथ है

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App