नई दिल्ली. कोरोना वायरस महामारी के बीच बुद्ध पूर्णिमा के मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुभकामनाएं देते हुए वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए लोगों को संबोधित किया. पीएम मोदी ने कहा कि सभी को और विश्वभर में फैले भगवान बुद्ध के अनुयायियों को बुद्ध पूर्णिमा की और बैसाख उत्सव की बहुत-बहुत शुभकामनाएं. पीएम ने आगे कहा कि उनका सौभाग्य है कि मुझे पहले ही इस पवित्र दिन पर आपसे मिलने, आपसभी से आशीर्वाद लेने का अवसर मिलता रहा है.

पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि कोरोना वायरस लॉकडाउन की वजह से समय बदला, हालात बदले, समाज की व्यवस्थाएं बदलीं, लेकिन भगवान बुद्ध का संदेश हमारे जीवन में निरंतर प्रवाहमान रहा है. यह सिर्फ इसलिए संभव हो पाया है क्योंकि, बुद्ध सिर्फ एक नाम नहीं हैं, बल्कि एक पवित्र विचार भी हैं.

पीएम नरेंद्र मोदी ने आगे कहा कि भगवान बुद्ध कहते थे कि मानव को निरंतर ये प्रयास करना चाहिए कि वो कठिन स्थितियों पर विजय प्राप्त करे उनसे बाहर निकले. उन्होंने कहा कि थक कर रुक जाना कोई विकल्प नहीं होता. आज हम सब भी एक कठिन परिस्थिति से निकलने के लिए, निरंतर जुटे हुए हैं, साथ मिलकर काम कर रहे हैं.

प्रधानमंत्री ने कहा कि बुद्ध, त्याग और तपस्या की सीमा है. बुद्ध, सेवा और समर्पण का पर्याय है. बुद्ध, मज़बूत इच्छाशक्ति से सामाजिक परिवर्तन की पराकाष्ठा है.

7th Pay Commission: 7th के तहत मोदी सरकार का पेंशन नियम पर बड़ा फैसला, लाखों केंद्रीय कर्मचारियों को होगा फायदा

PM Narendra Modi Mann Ki Baat: मन की बात में बोले पीएम नरेंद्र मोदी- रमजान में ज्यादा इबादत करें ताकि ईद से पहले खत्म हो जाए कोरोना वायरस

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर