नई दिल्ली. शनिवार को करतारपुर कॉरिडोर के खुलने से भारत और पाकिस्तान के बीच संबंधों में काफी सुधार होगा. करतारपुर कॉरिडोर उद्घाटन समारोह में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पूर्व पीएम डॉ. मनमोहन सिंह भी मौके पर मौजूद रहे. जब पीएम मोदी की नजरे पूर्व पीएम मनमोहन सिंह की तरफ गईं तो वह उनसे मिलने के लिए लपके. जब पीएम मोदी डॉ. मनमोहन सिंह की तरफ बढ़ने लगे तो मनमोहन सिंह ने अपने पास खड़े सुरक्षाकर्मियों के सहारे खड़े होने लगे. पीएम मोदी ने उनसे हाथ मिलया और वह उनका हाथ थामे रहे.

पीएम मोदी ने पूर्व पीएम डॉ मनमोहन सिंह से बात करते हुए कहा कि 9 नवंबर को बर्लिन को दीवार गिरी, 9 नवंबर को ही करतारपुर कॉरिडोर खुला और 9 नवंबर को ही ओयोध्या में राम मंदिर पर फैसला आया. हालांकि इस दौरान डॉक्टर मनमोहन सिंह ने कुछ नहीं बोला, इस नजारे को देख देश की जनता बेहद खुश हुई. वहां खड़े लोगों ने पीएम मोदी और मनमोहन सिंह जिन्दाबाद के नारे लगाए. इस मौके पर मनमोहन सिंह की पत्नी गुरशरण कौर, पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह, केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी और हरसिमरत कौर बादल भी थे.

करतारपुर कॉरिडोर के उद्घाटन पर पीएम मोदी ने जनता को संबोधित करते हुए कहा- गुरु नानक देव जी, सिर्फ सिख पंथ की, भारत की ही धरोहर नहीं, बल्कि पूरी मानवता के लिए प्रेरणा पुंज हैं. उन्होंने सीख दी है कि सच्चाई और ईमानदारी से किए गए विकास से हमेशा तरक्की और समृद्धि के रास्ते खुलते हैं. उन्होंने सीख दी है कि धन तो आता जाता रहेगा पर सच्चे मूल्य हमेशा रहते हैं. करतारपुर में ही उन्होंने प्रकृति के गुणों का गायन किया था. उन्होंने कहा था- “पवणु गुरु, पाणी पिता, माता धरति महतु” यानि हवा को गुरु मानो, पानी को पिता और धरती को माता के बराबर महत्व दो.

ये भी पढ़ें

Kartarpur Corridor Opening Today LIVE: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बेर साहिब में मत्था, करतारपुर कॉरिडोर के उद्घाटन के लिए थोड़ी देर में पहुंचेंगे डेरा बाबा नानक गुरुद्वारा

Kartarpur Corridor Opening Ceremony: नवजोत सिंह सिद्धू ने विदेश मंत्रालय को लिखा तीसरा पत्र, पहले दिन करतारपुर कॉरिडोर जाने की मांगी इजाजत, पाकिस्तान में इमरान खान के साथ लगे हैं सिद्धू के पोस्टर