नई दिल्ली. देश के कई राज्यों में एक बार फिर कैश का संकट है. एटीएम के बाहर लंबी-लंबी कतारें दिख रही हैं. स्थिति वैसी ही दिख रही है जो कभी नोटबंदी के समय हुई थी. एक तरफ सरकार और आरबीआई अचानक आए इस संकट से सकते में हैं तो वहीं कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने इस मामले को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा है. उन्होंने कहा कि पीएम मोदी ने देश के बैंकिंग सिस्टम को तबाह करके रख दिया है.

तो वहीं वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा है कि ‘देश में कैश की स्थिति की समीक्षा की गई है. देश में पर्याप्त मात्रा में कैश मौजूद है, बैंकों में भी कैश उपलब्ध है. कुछ क्षेत्रों में ‘अचानक और असामान्य वृद्धि’ के कारण कुछ समय के लिए कैश की समस्या हुई है. इस स्थिति से ज्ल्द से जल्द निपटने की कोशिश की जा रही है.

राहुल ने कहा है कि पीएम ने हमारे पॉकेट से 500, 1000 रुपये के नोट निकाल, नीरव मोदी के पॉकेट में डाल दिए. राहुल ने बैंकिंग घोटाले के अलावा राफेल मामले को भी लेकर केंद्र पर हमला बोला है. राहुल गांधी ने कहा कि इन दोनों मामलों पर उन्हें संसद में 15 मिनट बोलने का मौका दिया जाए, पीएम मोदी सदन में खड़े भी नहीं हो पाएंगे.

राहुल ने कहा कि अच्छे दिन सिर्फ नीरव मोदी और मेहुल चोकसी के लिए आए हैं. किसानों और मजदूरों के सिर्फ बुरे ही दिन आए हैं. राहुल ने कहा कि नीरव मोदी लोगों के पैसे लेकर भाग गया, प्रधानमंत्री ने गरीबों से 500-1000 के नोट लेकर नीरव मोदी को दे दिए लेकिन उन्होंने एक शब्द भी नहीं कहा.  

आपको बता दें कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी इन दिनों अपने संसदीय क्षेत्र अमेठी के दौरे पर हैं. इस दौरान राहुल स्थानीय लोगों और किसानों से मुलाकात कर रहे हैं.  इस समय शादियों का सीजन चल रहा है  और खेतों में कटाई भी हो रही है को ऐसे में नकदी का संकट परेशानी पैदा कर सकता है. गौरतलब है कि देश के कई राज्यों में पिछले कुछ दिनों से एटीएम में कैश न उपलब्ध होने से फिर नोटबंदी जैसी परेशानी का माहौल बनने लगा. लोगों की बढ़ती परेशानी को देखते हुए आखिरकार रिजर्व बैंक और सरकार को आगे आना पड़ा.

कुछ राज्यों में कैश का संकट, ज्यादा करेंसी वाले राज्यों से भेजेंगे पैसा- केंद्रीय मंत्री शिव प्रताप शुक्ला

कैश की किल्लत पर TMC सांसद डेरेक ओ ब्रायन का मोदी सरकार पर हमला, बोले- ये आर्थिक आपातकाल है

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App