नई दिल्ली: देश में नाबालिग के साथ बढ़ते रेप के मामलो को देखते हुए सरकार ने ऐसे मामलों में दोषी को फांसी की सजा दिए जाने का समर्थन किया है. शनिवार को दिल्ली में हुई केंद्रीय कैबिनेट की बैठक में ये फैसला लिया गया जिसके बाबत जल्द ही अध्यादेश जारी किया जा सकता है. इस अध्यादेश के मुताबिक 12 साल से कम उम्र की बच्चियों के साथ बलात्कार करने वालो को फांसी की सजा होगी. छोटी बच्चियों के साथ बढ़ रहे बलात्कार के मामलों को देखते हुए केंद्र सरकार ने पास्को एक्ट में संशोधन करने का फैसला किया. गौरतलब है कि उन्नाव, कठुआ को घटना के बाद देश भर में उमड़े गुस्से के कारण सरकार इस तरह का कानून लाने के लिए मजबूर हो गई.

इसके साथ ही केंद्रीय कैबिनेट ने छोटी बच्चियों के साथ रेप के मामलों की जांच में तेजी और तेज ट्रायल की भी सिफारिश की है ताकि जल्द से जल्द पीड़िता को इंसाफ मिल सके और आरोपी को सजा मिल सके. केंद्रीय कैबिनेट की सिफारिशों के मुताबिक 16 साल से कम उम्र की युवती के साथ अगर बलात्कार होता है तो सजा दस साल नहीं बल्कि 20 साल जेल की होनी चाहिए जो आजीवन कारावास में बदल सकती है. वहीं 12 साल से कम उम्र की बच्ची के साथ अगर ये जघन्य अपराध होता है तो आरोपी को फांसी की सजा दी जा सकती है.

गौरतलब है कि कठुआ गैंगरेप केस के बाद से नाबालिग के साथ रेप करने वालों को फांसी की सजा दी जाने की मांग उठ रही थी जिसे मोदी सरकार ने पूरा कर दिया है.

पढ़ें- शादी समारोह देखने निकली 6 साल की बच्ची हुई बलात्कार का शिकार, 28 साल का आरोपी गिरफ्तार

योगी आदित्यनाथ की पुलिस ने रेप आरोपी को बेल्ट से पीटा, वीडियो वायरल

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App