नई दिल्ली. ओलंपिक में जिस जेवलिन यानी भाले ने स्वर्ण पदक पर कब्जा जमाया हो उसे छू भर लेने की हसरत ना जाने कितने दिलों में होगी और यदि वही भाला किसी को हमेशा के लिये मिल जाए तो कैसा लगेगा ! निश्चित रूप से खुशी से उछल पड़ेगा, अब आप सोच रहे होंगे कि आखिर ऐसी बेशकीमीती चीज मिलेगी कैसे. हम आपको बता रहे हैं कि आप इसे कैसे हासिल कर सकते हैं।

PM Mementos on Auction

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अक्सर अपने अऩूठे अंदाज और काम से लोगों को चौंका देते हैं, उन्होंने ही इस दिशा में पहल की है और लोगों को मौका दे रहे हैं कि वे देश के गौरव से जुड़ी चीज़ों को हमेशा के लिए अपना बना लें। इन चीज़ों में ओलंपिक में भारत का सम्मान बढ़ाने वाले खिलाड़ियों के खेल उपकरणों सहित कई प्रतिष्ठित और ऐसी कलात्मक वस्तुएं शामिल हैं जो प्रधानमंत्री को उपहार (PM Mementos) या स्मृति चिन्ह के रूप में भेंट की गयी हैं।

पैराओलंपिक्स 2020 का स्वर्ण पदक

आपको याद है, टोक्यो पैराओलंपिक्स 2020 में हरियाणा के रहने वाले सुमित अंतिल ने जेवेलिन फेंक कर भारत को स्वर्ण पदक दिलाया था, वे जितनी दूर तक भाला फेंक सकते थे वहां तक फेंका और किसी को नहीं पता था कि उनकी इस कोशिश से विश्व कीर्तिमान बन जाएगा।

उन्होंने 68.55 मीटर दूर भाला फेंक कर ना सिर्फ जीवन की सबसे बड़ी उपलब्धि हासिल की बल्कि पूरे देश को गौरवान्वित कर दिया। खास बात यह थी कि सुमित ने अपना ही रिकॉर्ड तोड़ा था और उनका ये थ्रो वर्ल्ड रिकॉर्ड बन गया ।

सुमित भारत लौटे तो उन्होंने अपने हस्ताक्षर कर अपना जेवलिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भेंट कर दिया और अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आम लोगों को मौका दिया है कि इस जेवलिन को हासिल कर लें। इसके लिये सिर्फ इतना करना है कि PM Momentos पर चल रही online bid में हिस्सा लेना है, 17 सितंबर से शुरू हुई यह नीलामी 7 अक्टूबर तक चलेगी।

राम मंदिर की प्रतिकृति भी ले सकते हैं

सुमित अंतिल के जेवलिन के अलावा कई ओलंपिक और पैरालंपिक विजेताओं ने अपने खेल उपकरण को प्रधानमंत्री को भेट किया है। इतना ही नहीं कई समृति चिन्ह, जैसे उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा भेंट की गई अयोध्या के राम मंदिर की प्रतिकृति, उत्तराखंड के पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज द्वारा प्रस्तुत चारधाम की लकड़ी की प्रतिकृति, रुद्राक्ष कन्वेंशन सेंटर की प्रतिकृति उन वस्तुओं में शामिल है जिनकी नीलामी हो रही है।

जीवनदायिनी गंगा के कायाकल्प पर खर्च होगी रकम

खास बात यह है कि नीलामी से हासिल होने वाली रकम जीवनदायिनी नदी गंगा के संरक्षण और कायाकल्प कार्यक्रम नमामि गंगे परियोजना पर खर्च की जाएगी। इस नीलामी को लेकर लोगों में कितना जोश और उत्साह है इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि सुमित अंतिल के जेवलिन का बेस प्राइज़ एक करोड़ रुपये रखा गया था लेकिन पांच दिन में इसकी बोली दस करोड़ रूपए तक पहुंच गई है।

यह भी पढ़ें :

Sneha Dubey at UNGA : जानिए कौन है महिला ऑफिसर स्नेहा दुबे, जिसने UNGA में इमरान खान को दिखाया आइना

PM Mementos: फेंक जहां तक भाला जाए