नई दिल्ली : New Delhi 

Washington DC: वॉशिंगटन. अमेरिका के डॉक्टरों ने मेडिकल साइंस में एक नया कीर्तिमान स्थापित किया है. अमेरिका में डॉक्टरों ने एक इंसान के शरीर में सूअर का दिल प्रत्यारोपित Pig Heart Implant कर Pig Heart Implant In Human  बड़ा कारनामा अपने नाम किया है. डॉक्टरों ने एक 57 साल के अधेड़ व्यक्ति के शरीर में जेनेटिकली मॉडिफाइड सूअर का दिल सफलता पूर्वक लगाया. इसके बारे में यूनिवर्सिटी ऑफ मैरीलैंड मेडिकल साइंस की तरफ से बाकायदा एक बयान जारी कर कहा गया कि शुक्रवार को एक ऐतिहासिक ट्रांसप्लांट किया गया.

फिलहाल इस ट्रांसप्लांट के बावजूद भी बीमारी का इलाज निश्चित नहीं माना जा रहा है. फिर भी इस तरह की सर्जरी Pig Heart Implant को मेडिकल साइंस में मील का पत्थर माना जा रहा है.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, डेविड बेनेट नाम के इस मरीज में कई गंभीर बीमारियों और खराब स्वास्थ्य के चलते इंसानों का दिल ट्रांसप्लांट नहीं किया जा सकता था. इस वजह से सूअर का दिल प्रत्यारोपित किया गया. उसके शरीर मे सूअर का दिल किस तरह से काम कर रहा है. इससे सम्बन्धित हर तरह की गतिविधि पर डॉक्टर नजरें बनाए हुए हैं.

डेविड बेनेट पिछले लंबे अर्से से हार्ट-लंग बाईपास मशीन के सहारे बिस्तर पर पड़े हैं. उनके पास दो ही विकल्प थे या तो मर जाएं. या फिर दिल का ट्रांस्प्लांट करवाएं. वो जीना चाहते थे इसलिए उन्होने ऐसा किया

आगे उन्होने कहा यह उनकी आखिरी पसंद है. वे ठीक होने के बाद बिस्तर से बाहर निकलने के लिये उत्सुक हैं. वहीं सर्जरी करने वाले डॉक्टर बार्टले ग्रिफिथ का कहना है कि यह एक सफल सर्जरी है. इससे अंगों की कमी का हल आसानी से निकल जाएगा.

आखिर सूअर का ही दिल क्यों?

दरअसल इंसानों के हृदय और सूअरों के हृदय में काफी समानता है. लेकिन सूअर के सेल्स में एक शूगर सेल होता है. जिसे अल्फा गल कहा जाता है. उससे इंसान के शरीर में खतरा होने की संभावना थी. इस समस्या से निजात पाने के लिये सूअर के जेनेटिक रूप में परिवर्तन किया गया. और खास सेल को प्रोड्यूस कराया गया जो इंसानों में प्रत्यारोपित Pig Heart Implant होने के बाद सफल हो ।

यह भी पढ़ें

World most admired 2021: दुनिया के सबसे ज्यादा प्रशंसित पुरषो में PM मोदी टॉप 10 में बरकरार, राष्ट्रपति बाइडेन से भी आगे

 

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर