नई दिल्ली. कच्चे तेल की अंतरराष्ट्रीय कीमतों में 15 अगस्त के बाद से लगी आग और डॉलर के मुकाबले रुपए की हर रोज कमजोर हो रही हालत से देश में पेट्रोल और डीजल के दाम लगातार बढ़ रहे हैं. देश के कुछ शहरों में पेट्रोल अब 90 रुपए लीटर तो डीजल 80 रुपए लीटर की तरफ बढ़ रहा है. डॉलर के मुकाबले रुपया का भाव और कच्चे तेल की कीमत नहीं सुधरी तो कुछ दिन बाद पेट्रोल 90 और डीजल 80 के पार जा सकता है. पेट्रोल डीजल के बढ़ते दाम पर कांग्रेस ने केंद्र सरकार से टैक्स घटाकर लोगों को राहत देने की मांग की है. आम आदमी पार्टी के संयोजक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा है कि नरेंद्र मोदी सरकार को आम आदमी की परेशानियों की चिंता नहीं है.

कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सिंह सूरजेवाला ने ट्वीट करके कहा है कि लगातार 10वें दिन पेट्रोल और डीजल के दाम बढ़े हैं जिससे पहले से ही महंगाई के बोझ से दबी जनता त्राहिमाम कर रही है. सूरजेवाला ने सरकार पर तंज कसते हुए कहा है कि आपके जुमलों पर टैक्स नहीं लगता लेकिन पेट्रोल-डीजल पर लगता है जिसे कम करके आम लोगों को सरकार राहत दे. रुपए की कमजोरी पर भी सूरजेवाला ने ट्वीट किया है और कहा है कि अर्थव्यवस्था को बीमारी लग गई है जिससे रुपया डूब रहा है और सरकारी कोष पर डॉलर भारी पड़ रहा है. कांग्रेस ने खुद को देश का चौकीदार बताने वाले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से इसकी जिम्मेदारी लेने कहा है.

वहीं दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने नरेंद्र मोदी सरकार के कामकाज पर तीखा हमला बोलते हुए कहा है कि रुपया सबसे निचले स्तर पर है और पेट्रोल-डीजल सबसे ऊपर पहुंच चुके हैं. केजरीवाल ने कहा है कि इससे यही लगता है कि 2019 के चुनाव से पहले के कुछ आखिरी महीनों में चल रही नरेंद्र मोदी सरकार को पता ही नहीं है कि इसे ठीक करने के लिए क्या करना है या फिर वो आम लोगों की दिक्कतों से बेपरवाह है. केजरीवाल ने कहा है कि देश की अर्थव्यवस्था कभी इतनी बुरी हालत में नहीं थी.

डॉलर के मुकाबले रुपया और गिरकर 71.18, पेट्रोल 80 से 90 की तरफ बढ़ा, डीजल 80 के नजदीक

देश के अंदर ही दो अलग शहरों में पेट्रोल- डीजल के दामों में है 10 से 20 रुपये का फर्क

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App