नई दिल्ली. पेगासस जासूसी मामले से जुड़ी नौ याचिकाओं पर सुप्रीम कोर्ट में आज होने वाली सुनवाई सोमवार तक टल गई है। सॉलिसीटर जनरल ने कहा कि शिकायत की कॉपी अभी पढ़ी जा रही है। जिसके बाद ही अपनी दलील रख पाएंगे। इसके बाद मुख्य न्यायाधीश ने सोमवार तक सुनवाई टाल दी।

कोर्ट की टिप्पणी

कोर्ट में मंगलवार को सुनवाई के दौरान मुख्य न्यायाधीश जस्टिस एनवी रमना ने कहा कि बहस सिर्फ कोर्ट में होनी चाहिए, सोशल मीडिया पर नहीं। CJI एनवी रमना ने याचिकाकर्ताओं से कहा कि जो आपको कहना है वो हलफनामे के जरिए कहें। हम आपका सम्मान करते हैं, लेकिन जो बहस हो वो अदालत में हो। सोशल मीडिया पर समानांतर बहस ना हो।

सीजेआई ने कहा, याचिकाकर्ता मीडिया में बयान दे रहे हैं। हम चाहते है कि सारी बहस कोर्ट में हो। अगर याचिकाकर्ता सोशल मीडिया पर बहस करना चाहते है तो ये उन पर है। लेकिन अगर वो कोर्ट में आए हैं तो उन्हें कोर्ट में बहस करनी चाहिए। उन्हें कोर्ट पर भरोसा रखना चाहिए। जो बात है वो कोर्ट में कहें, एक समानांतर कार्यवाही सोशल मीडिया के जरिये न करें। कपिल सिब्बल ने सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश से सहमति जताई।

मालूम हो कि इससे पहले पेगासस जासूसी मुद्दे पर जारी गतिरोध के बीच रक्षा मंत्रालय ने चुप्पी तोड़ी थी। रक्षा राज्यमंत्री अजय भट्ट ने सोमवार को राज्यसभा में बताया कि सरकार का एनएसओ के साथ कोई लेनदेन नहीं रहा। रक्षा राज्यमंत्री अजय भट्ट ने एक लिखित जवाब में बताया कि उनके मंत्रालय ने इस्राइली कंपनी के साथ कोई करार नहीं किया और उसकी किसी तरह की सेवा नहीं ली।

Marburg Virus: दक्षिण अफ्रीका में मिला एक नया जानलेवा वायरस, चमगादड़ों से इंसानों में आया

Jantar Mantar Hate Speech: जंतर-मंतर पर भड़काऊ नारेबाजी को लेकर बीजेपी नेता अश्विनी उपाध्याय समेत 5 लोग हिरासत में, पूछताछ जारी

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर