नई दिल्ली. पेगासस जासूसी मामले में पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पूरी तरह से ऐक्शन में नजर आ रही हैं। इस मामले पर उन्होंने जांच आयोग गठित करने का आदेश दिया है। इस जांच आयोग में दो रिटायर्ड जज शामिल हैं, जो पश्चिम बंगाल में फोन हैकिंग, ट्रैकिंग और फोन रिकॉर्डिंग के आरोपों की जांच करेंगे।

सुप्रीम कोर्ट के पूर्व न्यायाधीश मदन लोकुर आयोग के अध्यक्ष होंगे। जबकि कलकत्ता हाईकोर्ट के पूर्व न्यायाधीश ज्योतिरमय भट्टाचार्य दूसरे सदस्य होंगे। ममता बनर्जी ने कहा कि “पेगासस के माध्यम से, न्यायपालिका और नागरिक समाज सहित हर कोई निगरानी में है। हमें उम्मीद थी कि संसद के दौरान, केंद्र एससी पर्यवेक्षण के तहत जांच करेगा, लेकिन उन्होंने नहीं किया। पश्चिम बंगाल आयोग शुरू करने वाला पहला राज्य है।”

ममता ने कहा कि पैनल जांच करेगा, “हैकिंग किसने की, उन्होंने यह कैसे किया और लोगों की आवाज क्यों दबाई जा रही थी।” उन्होंने कहा कि जांच आयोग अधिनियम के तहत पैनल का गठन किया जा रहा है। दिल्ली जाने से पहले कैबिनेट की बैठक में अभी निर्णय लिया गया है।

Kargil Diwas: हमें पाकिस्तान की जमीन पर कब्जा करने देना चाहिए था- जनरल वीपी मलिक

Mansoon Session: सदन में भारी हंगामा, लोकसभा 2 बजे तक स्थगित

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर