नई दिल्ली. पेगासस जासूसी को लेकर पूरा विपक्ष मोदी सरकार पर हमलावर है। अब ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने भी सरकार पर गंभीर आरोप लगाए हैं।

ओवैसी ने कहा है कि सरकार को तुरंत बताना चाहिए कि इस जासूसी कांड पर उसने क्या कार्रवाई की है. सरकार ये भी बताए की जासूसी कराने के लिए उसने जासूसी का सॉफ्टवेयर खरीदा था या नहीं। ओवैसी ने कहा, ”अगर सरकार को जासूसी करानी ही थी तो वह चीन सीमा पर जाकर उसकी जासूसी कराती।” उन्होंने कहा, ”मुझे समझ नहीं आ रहा है कि सरकार इतनी असुरक्षित क्यों है। सरकार ने गैरकानूनी रूप से जासूसी कराई है। इसलिए उसे ये बताना होगा कि उसने जासूसी के लिए सॉफ्टवेयर खरीदा है या नहीं और अगर खरीदा है तो उसका इस्तेमाल किया है नहीं।”

पीएम मोदी का जवाब

पीएम मोदी ने कहा कि, जासूसी कांड पर सरकार की घेराबंदी के बहाने विपक्ष कोरोना पर चर्चा से भाग रहा है। दरअसल आज सदन की कार्यवाही शुरू होने से पहले बीजेपी संसदीय दल की बैठक हुई। इस बैठक में पीएम मोदी ने कहा कि, जासूसी कांड के मुद्दे के बहाने विपक्ष कोरोना और वैक्सीनेशन पर चर्चा से पीछे भाग रहा है। पीएम ने कहा कि  कोरोना हमारे लिए राजनीति नहीं, मानवता का मुद्दा है।

वहीं आईटी मंत्री वैष्णव ने इस पर पहले ही बयान दिया है। उन्होंने कहा, ‘’ पीएम मोदी ने विपक्ष की धारणा पर चिंता व्यक्त की, लोगों का मुद्दा उठाने की बजाए कांग्रेस सोच रही है कि सत्ता और पीएम उनका अधिकार है. हम दो साल से महामारी झेल रहे हैं, लेकिन कांग्रेस बहुत गैर-जिम्मेदाराना व्यवहार कर रही है।’’

मालूम हो कि सत्र के दूसरे दिन आज लोकसभा की कार्यवाही शुरू होते ही स्थगित करनी पड़ी। क्योंकि विपक्ष काफी हमलावर है इस मुद्दे पर। आगे भी सरकार के लिए के राह आसान नजर नहीं आ रही।

Rich individual Bank Details: बैंकों ने सुप्रीम कोर्ट से पूछा क्या अमीर व्यक्तियों के खातों की जानकारी देना चाहिए?

Pegasus Scandal: सीजेआई रंजन गोगोई पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाने वाली पीड़िता सहित उसके 11 संबन्धित लोग थे हैकिंग के निशाने पर