Patna AIIMS Nursing Staff Strike: भारत में तेजी से फैल रही कोरोना महामारी के बीच पिछले कुछ दिनों में बिहार में कोरोना संक्रमित लोगों की संख्या में तेजी आई है. बिहार में हालात इस हद तक खराब है कि मरीजों को बेड नहीं मिल पा रहा है. जिन मरीजों को बेड मिल भी गया है उन्हें स्वास्थ सुविधाएं नहीं मिल पा रही हैं. इन सबके बीच अब स्थित और बिगड़ गई है जब पटना एम्स की 400 कॉन्ट्रैक्चुअल नर्सें हड़ताल पर चली गई हैं. पटना एम्स बिहार का इकलौता केंद्रीय अस्पताल है, जहां कई वीवीआईपी कोरोना मरीजों का इलाज चल रहा है.

बता दें कि हड़ताल पर नई नर्सों ने अपनी नौकर की सुरक्षा, वेतन को बढ़ाने, हेल्थ इंश्योरेंस, स्थायी कर्मचारियों की तरह छुट्टी समेत कई मांग की है. एम्स प्रशासन का कहना है कि हमने कुछ मांगों को मान लिया है. हालांकि अचानक हड़ताल पर गई 400 नर्सों का खामियाजा अस्पातल में भर्ती मरीजों को भुगतना पड़ रहा है.

बिहार में कोरोना मरीजों का आंकड़ा 30 हजार 369 को पार कर गया है. वहीं 217 लोगों की मौत हुई है. राज्य में कोरोना से अब तक 19 हजार मरीज जंग जीत चुके हैं. 10 हजार केस अभी एक्टिव हैं. कुछ दिनों पहले पीएमसीएच में व्यवस्था की बदहाली का मामला सामने आया था. राज्य में कही मरीजों को अस्पताल में जगह नहीं मिल रही है तो कहीं होम आइसोलेशन में मरीज की मौत के बाद एजेंसियों की बेरुखी के कारण लोग संक्रमण के खतरे का सामना कर रहे हैं.

Rajasthan Political Crisis: सुप्रीम कोर्ट में सचिन पायलट गुट की जीत, बागी विधायकों पर शुक्रवार को राजस्थान हाई कोर्ट सुनाएगा फैसला

Rajasthan Political Crisis: सचिन पायलट गुट को 24 जुलाई तक का मिला समय, हाईकोर्ट ने फैसला रखा सुरक्षित

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर