नई दिल्ली. देश के कई राज्यों में कैश की किल्लत चल रही है. विपक्षी दल इस मुद्दे पर केंद्र की मोदी सरकार को घेर रहे हैं. इस बीच खबर आ रही है कि वित्त मामलों की स्थायी संसदीय समिति ने बैंक घोटाले और गैर निष्पादित परिसंपत्तियों (एनपीए) पर सवाल पूछने के लिए भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर उर्जित पटेल को तलब किया है. सूत्रों के अनुसार, संसदीय समिति ने उर्जित पटेल से विभिन्न बैंक घोटालों और एनपीए पर विस्तृत जानकारी मांगी है.

बताया जा रहा है कि संसदीय समिति ने विभिन्न मीडिया रिपोर्टों का संज्ञान लेते हुए वीडियोकॉन ग्रुप को आईसीआईसीआई द्वारा दिए गए लोन का विवरण मांगा है. इसी साल कुछ महीने पहले चर्चाओं में आए पंजाब नेशनल बैंक के 11,400 करोड़ रुपये के घोटाले पर भी उर्जित पटेल से जानकारी मांगी गई है. पंजाब नेशनल बैंक लोन घोटाले में निरव मोदी और मेहुल चौकसी शामिल थे. केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने हाल में पंजाब नेशनल बैंक के 12,636 करोड़ रुपये के फर्जी लेनदेन की जांच की है.

बता दें कि बिहार, मध्य प्रदेश, राजस्थान, असम आदि कई राज्यों में कैश की काफी किल्लत सामने आ रही है. इन राज्यों में अधिकांश एटीएम खाली हैं. विपक्ष इसे नोटबंदी का प्रभाव बता रहा है. वहीं, सरकार ने कहा है कि कैश कई राज्यों तक पर्याप्त मात्रा में पहुंच नहीं पाया है. दो तीन दिन में यह दिक्कत दूर कर दी जाएगी. वित्त मंत्री अरुण जेटली ने ट्वीट कर यह जानकारी दी है.

कैश की किल्लत पर राहुल ने कहा- पीएम ने बैंकिंग सिस्टम बर्बाद कर दिया, जेटली बोले- 2-3 दिन में ठीक हो जाएगी दिक्कत

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App