नई दिल्ली. पाकिस्तान ने गुरुवार को कहा कि पाकिस्तानी जेल में बंद भारती के कुलभूषण जाधव को दूसरा कांसुलर एक्सेस नहीं मिलेहा. इस बारे में जानकारी पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता डॉ मोहम्मद फैसल ने दी. उन्होंने कहा कि पाकिस्तान की सैन्य अदालत द्वारा मौत की सजा पाने वाले सेवानिवृत्त भारतीय नौसेना अधिकारी कुलभूषण जाधव को दूसरा कांसुलर एक्सेस नहीं मिलेगा.

दरअसल पाकिस्तान ने पहले 2 अगस्त को जाधव के लिए कांसुलर एक्सेस की पेशकश की थी. हालांकि तब भारत ने जोर दिया था कि कांसुलर एक्सेस प्रभावी और बिना शर्त होना चाहिए. इसके बाद 2 सितंबर को पाकिस्तान में भारत के उप उच्चायुक्त गौरव अहलूवालिया ने पाकिस्तानी अधिकारियों की मौजूदगी में जाधव से मुलाकात की. यह एक रिकॉर्डेड बैठक थी.

इसके अलावा पाकिस्तानी प्रवक्ता ने करतारपुर कॉरिडोर को लेकर भी पाकिस्तान का पक्ष रखा है. उन्होंने बताया कि करतारपुर कॉरिडोर के रास्ते पाकिस्तान में तीर्थ यात्रा के लिए आ रहे श्रद्धालुओं से फीस वसूली जाएगी. हालांकि उन्होंने कहा है कि ये एंट्री फीस नहीं होगी ये केवल सर्विस फीस होगी. उन्होंने कहा कि, पाकिस्तान करतारपुर कॉरिडोर के लिए सेवा शुल्क (प्रवेश शुल्क नहीं) के रूप में प्रति व्यक्ति 20 यूएस डॉलर शुल्क लेगा. बता दें कि इससे पहले करतापुर कॉरिडोर को लेकर भारत और पाकिस्तान के बीच लंबे समय से चर्चा चल रही है.

इससे पहले 4 सितंबर को करतारपुर साहिब कॉरिडोर समझौते को लेकर पाकिस्तान द्वारा की गई दो मांगों को भारत ने खारिज कर दिया. दोनों देशों के बीच 4 सितंबर को तीसरे दौर की वार्ता आयोजित की गई थी. इस बैठक में भारत ने पाकिस्तान से दो मांगों पर पुनर्विचार करने को कहा था. समझौते को अंतिम रूप नहीं दिया गया था क्योंकि पाकिस्तान ने तीर्थयात्रियों को गुरुद्वारा करतारपुर साहिब में जाने की अनुमति देने के लिए सेवा शुल्क लेने पर जोर दिया था और अब पाकिस्तान ने इस पर अपना पक्ष रख दिया है.

MEA Statement On Kulbhushan Jadhav Consular Access: कॉन्सुलर एक्सेस पर विदेश मंत्रालय ने जारी किया बयान, कहा- कुलभूषण जाधव पर है पाकिस्तान के झूठे दावे मानने का भारी दबाव

India Pakistan Kartarpur Corridor Meeting: करतारपुर कॉरिडोर समझौते पर भारत-पाकिस्तान के बीच हुई तीसरे दौर की वार्ता, वीजा फ्री यात्रा पर सहमती, पाक की दो मांगे ठुकराई गईं

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App