इंदौर. मध्य प्रदेश के सागर जिले के गांव घोशी पट्टी से करीब 23 साल पहले अपने घर से लापता हुआ प्रह्लाद सिंह राजूपत पाकिस्तानी जेल से घर लौट रहा है। प्रह्लाद सोमवार को अमृतसर पहुंचेंगे। पुलिस और परिजन उन्हें लेने पहुंचेंगे। प्रह्लाद का बेटा फंडीलाल राजपूत 23 साल पहले अपने घर से लापता हो गया था। जबकि तब वह 33 साल के थे।

उसके बाद परिजनों ने उसकी काफी तलाश की, लेकिन उसका पता नहीं चला। इस बीच, वह पाकिस्तान पहुंचा और पकड़ा गया और जेल में डाल दिया गया। तब से वह पाकिस्तान की जेल में बंद था। प्रह्लाद अब सागर पुलिस और भारत सरकार के प्रयासों के बाद 56 साल की उम्र में घर लौट रहे हैं। प्रह्लाद के छोटे भाई वीर सिंह राजपूत निवासी घोषीपट्टी ने बताया कि बड़ा भाई प्रहलाद सिंह 1998 में मानसिक रूप से कमजोर था। उसका भी इलाज चल रहा था। लापता होने के बाद उन्होंने काफी तलाश की, लेकिन कहीं कुछ नहीं मिला। थाने में शिकायत की। इसी बीच 2014 में पुलिस ने घर आकर प्रह्लाद के बारे में जानकारी मांगी। तब पता चला कि प्रह्लाद एक पाकिस्तानी जेल में बंद था।

कोई नहीं जानता कि प्रह्लाद पाकिस्तान कैसे पहुंचा, लेकिन उसका पता चलने के बाद वह उसे पाकिस्तान से घर लाने की कोशिश करने लगा। उन्होंने अधिकारियों से मुलाकात की और सरकार को पत्र लिखकर प्रह्लाद की रिहाई की मांग की।वह अब 23 साल बाद स्वदेश लौटेंगे।

Drugs Case: ड्रग्स मामले में अरमान कोहली फिर बढ़ी मुश्किलें, हिरासत में लिया NCB ने

Lathi Charge on Farmers in Haryana : हरियाणा में किसानों पर हुआ लाठीचार्ज, कांग्रेस ने कहा- जनरल डायर की याद दिला दी

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर