नई दिल्ली. पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान की पार्टी पाकिस्तान तहरीक ए इंसाफ (पीटीआई) ने एक के बाद एक कई ट्वीट्स कर मीडिया पर ज्ञान बांचा है. इन ट्वीट्स में मीडिया को जिम्मेदार, और राष्ट्रप्रेमी होने की ताकीद की गई है, दुष्प्रचार में शामिल पत्रकारों पर निशाना साधा गया है. गौरतलब है कि पिछले ही हफ्ते पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की बेटी मरियम नवाज का लाइव इंटरव्यू का प्रसारण रोक कर ब्लैकआउट कर दिया गया था. इसके बाद से ही पाकिस्तान में मीडिया की आजादी पर सवाल उठे थे. अब पीटीआई के इन ट्वीट्स से लग रहा है कि वो अपने खिलाफ बोलने वाले मीडिया संस्थानों को बर्दाश्त नहीं कर पा रहे हैं.

पाकिस्तान की मीडिया निश्चित तौर पर एक मुश्किल स्थिति में काम करती है. ऐसे देश में जहां प्रधानमंत्री से ज्यादा पावर आर्मी चीफ के पास हो, जहां लोकतंत्र हर कुछ वर्ष बाद बंधक बना लिया जाता हो पत्रकारिता निश्चित तौर पर चुनौतीपूर्ण कार्य है. हालांकि हास्यास्पद बात यह है कि कोलंबिया स्कूल ऑफ जर्नलिज्म के प्रोफेसर राजू नरीशेट्टी ने भारतीय न्यूज एजेंसी पीटीआई को टैग कर के भारत में पत्रकारिता के दमन पर चिंता जता दी. हालांकि बाद में सोशल मीडिया यूजर्स ने उनका खूब मजाक उड़ाया.

पीटीआई ने मीडिया को ज्ञान बांचते हुए किए ताबड़तोड़ ट्वीट्स

पीटीआई ने कहा- डिजिटल मीडिया के कारण प्रिंट मीडिया की स्थिति चिंताजनक, सरकार पर इसका दोषारोपण हास्यास्पद

पीटीआई ने कहा- पाकिस्तान की अतर्राष्ट्रीय छवि को नुकसान पहुंचा रहा है मीडिया

पीटीआई ने कहा- बता दें कि ये सारे ट्वीट्स पीटीई हैश टैग #JournalismNotAgenda के साथ किए

पीटीआई ने कहा- भ्रामक और गलत रिपोर्टिंग से देश की छवि खराब होती है

पीटीआई ने कहा- अभिव्यक्ति की आजादी, जिम्मेदारी से पत्रकारिता साथ-साथ ही चलते हैं

पीटीआई ने कहा- पार्ट टाइम पत्रकार और फुल टाइम दुष्प्रचार करने वाले और सोशल मीडिया एक्टविस्ट अपने पुराने मालिकों को खुश करने में लगे हैं लेकिन यह देश के भविष्य के शर्त पर नहीं हो सकता

पीटीआई ने कहा- अभिव्यक्ति की आजदी लोकतंत्र की खूबसूरती है लेकिन गलत उद्देश्य के लिए इस्तेमाल होते ही यह अपनी सुंदरता खो देती है.

पीटीआई ने कहा- मीडिया को लेकर  पाकिस्तािन की सत्ताधारी पार्टी का गुस्सा पुराना है. पीटीआई ने ट्वीट में पूछा है कि पत्रकारिता क्या है- बिजनेस या जिम्मेदारी

पीटीआई ने कहा- मीडिया का काम या तो राष्ट्र निर्माण हो सकता है या देश के दुशमनों के हाथों का खिलौना बनना

पाकिस्तान तहरीके इंसाफ ने ट्विटर पर यह पत्रकारिता की क्लास दी है. हैरानी की बात है कि जो अपने राजनीतिक विरोधियों के लाइव इंटरव्यू तक रुकवा रहे हों, वो ही अब मीडिया को ज्ञान दे रहे हैं. सोशल मीडिया पर लोग पीटीआई के इस ट्वीट ट्रेल का विरोध कर रहे हैं. बता दें कि मरियम नवाज ने सरकार के खिलाफ देेश भर में रैलियां करने का ऐलान किया है. वहीं विपक्षी पार्टियां लगातार सरकार पर हमलावर हैं. ऐसे में मीडिया पर सत्ताधारी पार्टी के इस ज्ञान के बाद पाकिस्तान में पत्रकारों के लिए खतरे की घंटी जरूर बज गई है.

ICJ Verdict on Kulbhushan Jadhav: बुधवार को इंटरनेशल कोर्ट ऑफ जस्टिस ICJ में कुलभूषण जाधव मामले पर फैसला, जानिए क्या है पूरा मामला और भारत-पाकिस्तान की दलीलें

Pakistan Opens Air Space: पीएम नरेंद्र मोदी की कूटनीति पड़ी इमरान खान पर भारी, बालाकोट हमले के बाद से बंद पाकिस्तान एयरस्पेस भारतीय विमानों के लिए खुला

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App