इस्लामाबाद: अंतरराष्ट्रीय आतंकवाद वित्तपोषण पर निगरानी रखने वाली संस्था वित्तीय कार्रवाई कार्य बल की ग्रे लिस्ट से बाहर आने की कोशिश कर रहे पाकिस्तान ने 88 प्रतिबंधित आतंकवादी संगठनों और हाफिज सईद, मसूद अजहर और दाऊद इब्राहिम पर कड़े वित्तीय प्रतिबंध लगाए हैं. खबर के अनुसार इन आतंकी संगठनों और उनके आकाओं की सभी संपत्तियों को जब्त करने और बैंक खातों को सील करने का आदेश हो चुका है. गौरतलब है कि पेरिस स्थित एफएटीएफ ने जून 2018 में पाकिस्तान को ‘ग्रे लिस्ट में डाला था और इस्लामाबाद को 2019 के अंत तक कार्ययोजना लागू करने को कहा था, लेकिन कोविड-19 महामारी के कारण इस समय सीमा बढ़ा दिया गया था. आखिकार दुनिया की नजरों में लगातार हो रही बेज्जती से खुद को बचाने के लिए मजबूरी में ही सही लेकिन आतंक के आकाओं पर कार्रवाई करनी पड़ी है.

पाक सरकार ने 18 अगस्त को दो अधिसूचनाएं जारी करते हुए 26/11 मुंबई हमले के साजिशकर्ता और जमात-उद-दावा के सरगना सईद, जैश-ए मोहम्मद के प्रमुख अजहर और अंडरवर्ल्ड डॉन इब्राहिम पर आर्थिक प्रतिबंध लगाने की घोषणा की थी. दाऊद इब्राहीम 1993 मुंबई बम विस्फोटों के बाद से भारत से भागा हुआ है और भारत समेत दुनिया की टॉप मोस्ट वांटेड लिस्ट में बना हुआ है.

पाकिस्तानी समाचार पत्र ‘द न्यूज’ की खबर के अनुसार पाकिस्तान सरकार ने हाल ही में संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद द्वारा जारी नई सूची के अनुपालन में आतंकवादी समूहों के 88 आकाओं और सदस्यों पर प्रतिबंध लगाए हैं. अधिसूचनाओं में घोषित प्रतिबंध जमात-उद-दावा, जैश-ए-मोहम्मद, तालिबान, दाएश, हक्कानी समूह, अलकायदा और अन्य पर लगाए गए हैं. खबर के अनुसार सरकार ने इन संगठनों और आकाओं की सभी चल और अचल संपत्तियों को जब्त करने और उनके बैंक खातों को सील करने के आदेश दिए है.

Delhi Terrorist Arrested: दिल्ली में बड़े आतंकी साजिश का पर्दाफाश, स्पेशल सेल ने ISIS के आंतकी को धौला कुआं से किया गिरफ्तार

Rajasthan Legislative Assembly: राजस्थान विधानसभा की आखिरी पंक्ति में बैठे सचिन पायलट बोले, मैं सबसे मजबूत योद्धा, सरकार गिरने नहीं दूंगा

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर