नई दिल्ली. दिल्ली में कोरोना के बढ़ते मामले के बीच ऑक्सीजन की भी किल्लत हो गई है. इसकी वजह से कोरोना मरीजों की परेशानी बढ़ गई है. सेंट स्टीफंस अस्पताल ने बुधवार को एक बयान जारी कर बताया कि वहां पर ऑक्सीजन की भारी किल्लत हो गई है. अस्पताल में महज दो घंटे का ऑक्सीजन बचा है. यहां कोरोना के 300 मरीज भर्ती हैं. अस्पताल के पीआरओ का कहना है कि फरीदाबाद स्थित कंपनी लिंडे उनके यहां ऑक्सीजन की आपूर्ति करती है. कंपनी ने ऑक्सीजन देने से मना कर दिया है.

सेंट स्टीफंस अस्पताल ने मरीजों की जिंदगी बचाने के लिए ऑक्सीजन सप्लाई की तुंरत मांग की है. अस्पताल प्रशासन का कहना है कि जितना जल्दी हो सके समय रहते ऑक्सीजन की सप्लाई की व्यवस्था कराई जाए वरना मरीजों की परेशानी बढ़ जाएगी.

मिली जानकारी के मुताबिक अभी तक ऑक्सीजन सप्लाई  नहीं हो पायी है. फिलहाल मरीजों के परिजनों के माथे पर चिंता की लकीरें खिंच गई हैं. दिल्ली उच्च न्यायालय ने सोमवार, 19 अप्रैल को देश में ऑक्सीजन की कमी के मुद्दों पर केंद्र को फटकार लगाई, घटनाओं के एक विचित्र मोड़ में, उत्तर प्रदेश सरकार ने अब ग्रेटर नोएडा के आईनॉक्स एयर प्रोडक्ट्स प्राइवेट लिमिटेड और हरियाणा के बाहर गार्ड और अधिकारियों को तैनात किया है.

बता दें कि दिल्ली में पिछले 24 घंटों में 28,395 नए कोविड -19 मामले और 277 मौतें दर्ज की गई हैं. पिछले साल महामारी शुरू होने के बाद से कोविड -19 मामलों में यह दिल्ली सबसे बड़ा रिकोर्ड  बनाया है.

Corona Vaccine in Rajasthan : फल-सब्जी, दूध, किराने का सामान और दवाएं बेचने वालों को पहले लगाया जाएगा वैक्सीन : अशोक गहलोत

MS Dhoni Parents Covid Positive: पूर्व भारतीय कप्तान एमएस धोनी के माता- पिता कोरोना संक्रमित, अस्पताल में भर्ती