हैदराबादः केंद्र सरकार के द्वारा प्रस्तावित तीन तलाक के कानून का एमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने जमकर विरोध किया, शनिवार को ‘शरीयत’ की रक्षा के लिए भारतीय मुसलमानों के बीच एकता का आह्वान किया. औवेसी ने कहा कि, सुप्रीम कोर्ट के फैसले को लेकर भ्रम की स्थिति है, कोई भी आदमी ये नहीं बता सकता कि, अगर एक बार में शादी के समय में तीन बार तलाक कहता है या उसे केवल एक तलाक माना जाता है. औवेसी ने आश्चर्य जताते हुए कहा कि, मैं हैरान हूं कि सरकार ये बिल कैसे ला सकती है. संसद सदस्य ओवैसी ने मोदी सरकार से सवाल करते हुए कहा कि, अगर वह तीन साल के लिए महिला के पति को जेल भेज देगें तो महिलाओं को आर्थिक मदद कहां से दिलवाएंगे.

मिलाद-उन-नबी के अवसर पर एमआईएम मुख्यालय दारुसलाम में एक सार्वजनिक बैठक को संबोधित करते हुए ओवैसी ने चेतावनी दी कि कानून उनकी पत्नियों को छोड़ने वाले पतियों की एक नई समस्या का कारण बन सकता है. उन्होनें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर बोलते हुए कहा कि, उन्होनें मुस्लिम महिलाओं के अधिकारों की बात की लेकिन हिन्दू बहनों पर ध्यान नहीं दिया. दावा करते हुए कहा कि, ’20 लाख हिन्दू महिलाओं को उनके पतियों ने छोड़ दिया है’ ओवैसी ने प्रधानमंत्री मोदी से सवाल किया कि क्या उनके बचाव में भी वो आएंगे या नहीं
ओवैसी ने कहा कि, संघ परिवार मुस्लिम महिलाओं के लिए सहानुभूति दिखाता है, लेकिन एक फिल्म को रिलीज करने की अनुमति नहीं दे रहा. ओवैसी ने पूछा कि, ‘जब आप एक फिल्म (‘पद्मवती’) को रिलीज करने की अनुमति नहीं दे सकते, तो आप मेरी शरियत में कैसे हस्तक्षेप कर सकते हैं’.

एमआईएम अध्यक्ष ने कहा कि मुसलमानों को राजपूतों का उदाहरण देते हुए कहा कि मुसलमानों को राजपूतों से सबक सीखना चाहिए, जो कम संख्या के होने के बावजूद फिल्म की रिलीज को रोकने के लिए एक साथ आए. उन्होंने कहा, ‘अगर मुस्लिम देश को मजबूत बनाने और शरिया को बचाने के लिए एक हो सकते हैं, तो हम निश्चित रूप से कुछ कर सकते हैं’. ओवैसी ने आगे कहा कि, मुस्लिम समुदाय को पटेल, गुज्जर, जाट और मराठों से भी सबक सीखना चाहिए जो अपने अधिकारों और आरक्षण के लिए लड़ने के लिए एक साथ आए.

अपने संबोधन में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के बयान पर कि ताजमहल भारतीय संस्कृति का हिस्सा नहीं हैं, और भाजपा ने स्मारक को दासता के प्रतीक के रूप में वर्णन किया है, ओवैसी ने पूछा कि क्यों मोदी ने अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प की बेटी इवकांका ट्रम्प और अन्य के लिए फलकनुमा पैलेस में एक रात की मेजबानी की. उन्होंने कहा, ‘आपको हमारे पूर्वजों के प्रतीकों को देखना होगा’. उन्होंने इस सप्ताह ग्लोबल उद्यमिता शिखर सम्मेलन के प्रतिनिधियों (जीईएस) के लिए गोलकुंडा किले में आयोजित कार्यक्रम का भी उल्लेख किया.

गुजरात चुनाव पर बोलते हुए ओवैसी ने कहा कि, भाजपा और कांग्रेस दोनों के नेताओं ने दौरे वाले मंदिरों में एक दूसरे केसाथ मंथन किया और हर नेता खुद को ‘अन्य की तुलना में बड़ा हिंदू’ होने का दावा कर रहे थे. उन्होंने आरोप लगाया कि दोनों पार्टियां विभिन्न समुदायों के लिए आरक्षण की पेशकश में एक दूसरे के साथ प्रतिस्पर्धा कर रही थीं लेकिन मुसलमानों के लिए कोटे का विरोध करने में एकजुट थे. उन्होंने दोनों पार्टियों को ‘ढोंगी’ कहा. पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने भारतीय मुसलमानों के पोषण और उनकी देखभाल करने की जरूरत पर बल दिया, ओवैसी ने कहा कि यह मीडिया के लिए खबर है क्योंकि पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति ने ये बात कही है. ओवैसी ने कहा कि ‘हमारी पार्टी 60 वर्षों से यही कह रही है हम यह कह रहे हैं कि हम इस देश से प्रेम करते हैं, हमें अपने संविधान पर विश्वास है और अगर मुसलमानों को उनके संवैधानिक अधिकार मिलें तो देश मजबूत हो सकता है’.

कांग्रेस पार्टी पर हमलावर होते हुए कहा कि, उन्होंने एमआईएम को विभिन्न राज्यों में वोटों को बांटने के लिए दोषी ठहराया ताकि वह मोदी को हराने में विफल रहे. उन्होंने याद दिलाया कि उनकी पार्टी ने उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में 400 में से 28 सीटों पर चुनाव लड़ा था. उन्होंने कहा, ‘उत्तर प्रदेश में हुए सीवी चुनावों में हमने 32 सीटों पर जीत हासिल की लेकिन कांग्रेस को केवल 1 9 सीटों पर ही जीत मिली और वह अमेठी में एक भी सीट नहीं जीत पाई’.

ये भी पढें-  अपने ऊपर लग रहे सभी आरोपों का मोबाइल ऐप पर जवाब देगी RSS

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App