नई दिल्ली. पेगासस सॉफ्टवेयर मामले के सामने आने के बाद विपक्ष सरकार की दी गई सफाई से कतई संतुष्ट नहीं दिख रहा है। विपक्ष के द्वारा लगातार तीखे सवाल कोई जा रहे हैं।

ओवैसी ने ट्वीट कर सरकार से सवाल पूछा कि, फोन हैकिंग के लिए पेगासस सॉफ्टवेयर हैकिंग है, टैपिंग नहीं। उन्होंने कहा हैकिंग एक अपराध है फिर चाहे ये किसी शख्स ने किया हो या किसी सरकार ने। उन्होंने सरकार से दो टूक शब्दों में कहा कि, सरकार को दो बातें जरूर बतानी होंगी। पहली ये कि क्या उसने एनएसओ स्पाईवेयर का उपयोग किया? क्या सरकार ने न्यूज रिपोर्ट्स में लिए नामों को दायरे में लिया था कि नहीं?

वहीं, पेगासस मामले पर सूर्य प्रताप सिंह ने भी ट्वीट कर सरकार पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि, अच्छे-अच्छे फंसे थे जासूसी के जाल में- पत्रकार, विपक्ष के नेता, सुप्रीम कोर्ट के जज तक को नहीं छोड़ा। सवाल करते हुए उन्होंने कहा कि, आखिर इन सबकी फोन टैपिंग क्यूं कराई जा रही थी? क्या खतरा था? वाणी पर पहरे लगा दिए। लोकतंत्र की गर्दन मरोड़ कर रख दी।

इससे पहले कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी मामले पर ट्वीट कर सरकार पर सीधा तंज कसा। उन्होंने कहा कि, “हमें पता है वो हमारे फोन में क्या पढ़ रहे हैं।”

वहीं, कांग्रेस के नेता श्रीनिवास बीवी ने भी मामले पर ट्वीट करते हुए कहा, जब कांग्रेस थे, तब भी जासूसी इनका धंधा था. आज जब नहीं है तब भी जासूसी का धंधा है। ये सुधरेंगे कब?

Pegasus Scandal: पेगासस तूल के जरिए इन पत्रकारों की हुई जासूसी, देखें पूरी लिस्ट

Pegasus Scandal: जानें क्या है ‘पेगासस स्पाइवेयर’, जिसने भारतीय राजनीति में ला दिया है भूचाल?