नई दिल्ली. मीडिया ग्रुप दैनिक भास्कर और भारत समाचार चैनल के दफ्तरों पर इनकम टैक्स की छापेमारी के बाद मोदी सरकार के खिलाफ विपक्ष लामबंद होता दिखाई दे रहा है। कांग्रेस से लेकर आम आदमी पार्टी तक ने इस मीडिया को डराने का प्रयास करार दिया है। 

गुरुवार को संसद के मानसूत्र में जमकर हंगामा हुआ और दोनों सदन दोपहर दो बजे तक के लिए स्थगित कर दिये गये। गुरुवार को सुबह जयपुर, भोपाल और नोएडा इत्यादि भास्कर के दफ्तरों पर आयकर विभाग की टीम ने छापेमारी शुरू की।

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने इसे मीडिया को डराने का प्रयास करार देते हुए बीजेपी के खिलाफ आक्रामक रुख अख्तियार करते हुए कहा कि उनका संदेश साफ़ है, जो भाजपा सरकार के खिलाफ बोलेगा, उसे बख्शेंगे नहीं। उन्होंने कहा कि ऐसी सोच बेहद ख़तरनाक है। सभी को इसके खिलाफ आवाज उठानी चाहिए।

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने इस छापेमारी को केंद्र द्वारा मीडिया को दबाने का प्रयास बताते हुए कहा कि यह सत्तारूढ़ भाजपा की फासीवादी मानसिकता का परिचायक है। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार अपनी रत्तीभर आलोचना भी बर्दाश्त नहीं कर सकती है। यह भाजपा की फासीवादी मानसिकता है जो लोकतंत्र में सच्चाई का आइना देखना भी पसंद नहीं करती है। उन्होंने कहा कि ऐसी कार्रवाई कर मोदी सरकार मीडिया को दबाकर संदेश देना चाहती है कि यदि गोदी मीडिया नहीं बनेंगे तो आवाज कुचल दी जाएगी।

ममता बनर्जी ने इस छापेमारी को लोकतंत्र को कुचलने का प्रयास करते हुए कहा कि पत्रकारों और मीडिया घरानों पर हमला लोकतंत्र को कुचलने का एक और क्रूर प्रयास है। दैनिक भास्कर की पीठ थपथपाते हुए उन्होंने कहा कि सरकार की इस प्रतिशोधात्मक कार्रवाई की निंदा करती हूं, जोकि सत्य को दबाने की एक कोशिश है।

कांग्रेस नेता जयराम रमेश ने आरोप लगाया कि भास्कर को कोरोना महामारी के दौरान सरकार की बदइंतजामी की पोल खोलने की सजा दी जा रही है।

IT Raid on DB Offices: भास्कर अखबार के संस्थान और मालिकों के घरों पर आयकर विभाग की रेड, टैक्स चोरी का है आरोप

Indians Watching Porn in Lockdown: लॉकडाउन के दौरान ठरकी हो रहा था लोगों का मूड, पोर्न देखने वालों की संख्या में हुआ 95 फीसदी तक इजाफा-स्टडी

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर