नई दिल्ली. देश में कोरोना मामलों में उतार-चढ़ाव लगातार जारी है, हालांकि कोरोना के संक्रमित मरीज़ अब बड़ी तेज़ी से कम हो रहे हैं. ऐसे बीते दिनों दक्षिण अफ्रीका से सामने आए कोरोना के नए संक्रमण ओमिक्रोन ( Omicron News ) ने अपनी दहशत दिखाना शुरू कर दिया है. दक्षिणी अफ्रीका के कीच नागरिक जब भारत लौट तो वे कोरोना संक्रमित पाए गए. हालांकि दोनों ही मरीजों में कोरोना के नए वैरिएंट की पुष्टि नहीं हुई है. लेकिन नए वायरस ने देश को एक बार फिर डरा दिया है. लोगों के बीच इस बात को लेकर आशंका तेज़ हो गई है कि क्या यह नया वैरिएंट कोरोना के पिछले वैरिएंट से भी ज्यादा खतरनाक है. अब इस मामले में सरकार ने अंतरराष्ट्रीय उड़ानों के लिए कुछ नए नियम लागू किए हैं, जिसके तहत एयरपोर्ट पर सबका RT-PCR टेस्ट करवाना अनिवार्य हो गया है.

जीनोम सीक्वेंसिंग के लिए भेजे सैम्पल्स

ओमिक्रॉन के डर से देश में दहशत भरा माहौल बना हुआ है, ऐसे में सरकार भी सख्ती बरतती हुई नज़र आ रही है. बीते दिनों सरकार ने जोखिम वाले देशों से आने वालों के लिए RT-PCR टेस्ट करवाना अनिवार्य कर दिया है. इसी कड़ी में बीते दिन 11 एयरपोर्ट से एट रिस्क वाले देशों से आए 3476 लोगों का कोविड टेस्ट करवाया गया था. जिसमें से 6 लोगों की कोरोना रिपोर्ट पॉज़िटिव आई है. अब इनके सैम्पल्स को जीनोम सीक्वेंसिंग के लिए भेजा जा रहा है, जीनोम से ही इनके ओमिक्रॉन से संक्रमित होने का पता चलेगा.

RT-PCR टेस्ट करवाना अनिवार्य

ओमिक्रोन के बढ़ते कहर को देखते हुए अब ‘कंट्री एट रिस्क’ से आने वाले यात्रियों को अब एयरपोर्ट पर RT-PCR टेस्ट अनिवार्यतः करवाना होगा. ऐसे में अब यात्रियों को 5-6 घन्टे एयरपोर्ट पर ही इंतज़ार करना पड़ सकता है. आरटी पीसीआर टेस्ट करने वाली कम्पनियों को 400-500 यात्रियों के कोरोना टेस्ट में कम से कम 1 घन्टे का समय लगेगा, जिसके बाद अगर जल्द से जल्द भी रिपोर्ट दी जाए तो रिपोर्ट आने में 6-7 घन्टे ला समय लगेगा. ऐसे में यात्रियों को एयरपोर्ट पर घण्टों इंतज़ार करना पड़ सकता है.

यह भी पढ़ें:

International Flights: 15 दिसंबर से नहीं शुरू होंगी अंतर्राष्ट्रीय उड़ानें

Death threat to Yogi Adityanath उत्तर प्रदेश पुलिस की नींद फाख्ता