July 20, 2024
  • होम
  • अब जीका वायरस का कहर, केंद्र ने उठाया ये कदम, एमपी ने जारी की एडवाजरी

अब जीका वायरस का कहर, केंद्र ने उठाया ये कदम, एमपी ने जारी की एडवाजरी

  • WRITTEN BY: Shweta Rajput
  • LAST UPDATED : July 10, 2024, 8:57 am IST

मध्य प्रदेश: जीका वायरस के महाराष्ट्र में जो मामले सामने आए उसके बाद अब वही मामले मध्य प्रदेश में भी देखने को मिले हैं। इसके चलते केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने इस खतरनाक वायरस को लेकर एक अलर्ट जारी किया था। जानकारी के मुताबिक इस वायरस की जांच एम्स और जीएमसी स्थित रीजनल वायरोलाजी लैब में की जाती है। परंतु इस वायरस के फैलने के बाद अब राज्य ने भी एडवाइजरी जारी कर दी है। आइए जानते हैं क्या है पूरा मामला?

खतरनाक है जीका वायरस

महाराष्ट्र में जीका के मामले आने के बाद कुछ राज्यों में इस वायरल को लेकर अलर्ट जारी किया गया है। जानकारी के अनुसार जीका वायरस को लेकर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने सभी राज्यों को एक बड़ी एडवाइजरी जारी की है। इस एडवाइजरी के अलावा राज्य ने इस खतरनाक वायरस को लेकर एक अलर्ट भी जारी किया है जिसमें कहा गया है कि अस्पतालों में व्यवस्थाएं रखी जाएं और गर्भवती महिलाओं में जीका वायरस के संक्रमण के खतरे को देखते हुए स्क्रीनिंग बढ़ाई जाएं। जानकारी के अनुसार डेंगू के अब तक शहर में 56 के आस-पास कुल मामले सामने आ चुके हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की रिपोर्ट के मुताबिक जीका का वायरस ट्रांसमिशन करता है औरल जो लोग पुणे से महाराष्ट्र या फिर महाराष्ट्र या पुणे की यात्रा पर निकलते हैं, इसी कारण से यहां भी संक्रमण फैलने की संभावना काफी बढ़ गई है। जानकारी के मुताबिक इस वायरस के कई मामले केरल, महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश, तमिलनाडु, मध्य प्रदेश, राजस्थान, दिल्ली में भी आ चुके हैं।

गर्भवती महिलाओं को भी खतरा

जानकारी के अनुसार इस खतरनाक वायरस से सबसे ज्यादा गर्भवती महिलाओं को खतरा है। हमीदिया अस्पताल के न्यूरोमेडिसिन विशेषज्ञ डा. आयुष दुबे का इस मामले में कहना है कि यह खतरनाक जीका वायरस एडीज मच्छर के जरिए फैलता है। इतना ही नहीं यह वायरस मच्छर डेंगू, चिकनगुनिया और यलो फीवर का कारण भी बनता है। आयुष दुबे ने बताया कि यह इसके काटने की संभावना ज्यादातर दिन में ही होती है। गर्भवती से उसके बच्चे में यह वायरस प्रेग्नेंसी के दौरान भी फैलता है। इसी कारण से जीका वायरस को लेकर सभी जिलों को राज्य सरकार ने अलर्ट पर रहने का आदेश दिया है। इसके अलावा जानकारी के अनुसार यह वायरस एक से दूसरे इंसान में शारीरिक संबंध बनाने के दौरान ट्रांसमिट हो सकता है। इस खतरनाक बीमारी से जो भी गर्भवती महिला संक्रमित है, इसका सीधा असर होने वाले बच्चों का मस्तिष्क परल पड़ता है। इसके चलते होने वाले बच्चे के सिर का आकार सामान्य से कम होता है और मस्तिष्क पूरी तरह से विकसित नहीं हो पाता। इसी कारण से यह खतरनाक जीका वायरस संक्रमण इस समय सबी राज्यों में चिंता का विषय बना हुआ है।

Also Read…

एल्विश यादव पर गिरी गाज, करीबी दोस्त से ईडी ने की पूछताछ

Tags

विज्ञापन

शॉर्ट वीडियो

विज्ञापन