पटना: एक तरह जहां बिहार की राजधानी पटना समेत पूरा राज्य जलमग्न है वहीं दूसरी तरफ बिहार के मुख्यमंत्री किसी तरह की जिम्मेदारी लेने को तैयार नहीं हैं. बाढ़ से निपटने के इंतजाम और प्रशासनिक व्यवस्था पर कोई सवाल ना उठाए उससे पहले ही सीएम नीतीश कुमार ने बिहार की तुलना अमेरिका से करते हुए कहा कि वहां बाढ़ नहीं आती क्या? सरकार और प्रशासन की नाकामियों छुपाने के लिए नीतीश कुमार पत्रकारों से ही जवाब तलब करने लगे. उन्होंने कहा कि देश के कितने हिस्से ऐसे हैं या दुनिया के ऐसे कितने हिस्से हैं जहां बाढ़ नहीं आती? क्या पटना के एक मोहल्ले में में बाढ़ का पानी आ गया सिर्फ यही समस्या है हम लोगों के लिए? अमेरिका में क्या हुआ है?

नीतीश कुमार उल्टा पत्रकारों पर भड़क गए और कहा कि आप लोगों का कोई काम नहीं है. आप लोग जन जागृति के लिए काम नहीं कर रहे हैं. नीतीश कुमार ने कहा कि बिहार में प्राकृतिक आपदा आई है. इस समय तक सूखा पड़ता था. लेकिन इस बार पूरे राज्य में बारिश हो रही है.

नीतीश कुमार ने प्रशासन का बचाव करते हुए कहा कि बाढ़ के पहले दिन से प्रशासन जरूरी इतंजाम करने में जुटा हुआ है. राहत और बचाव का काम जारी है. पानी निकालने के लिए पंपिंग की व्यवस्था की गई है. कमाल की बात ये है कि एक तरह जहां पूरा पटना शहर बाढ़ की चपेट में है और बिहार के 18 जिले जलमग्न हैं वहीं नीतीश कुमार को लग रहा है कि पटना के एक मोहल्ले में ही पानी भरा हुआ है.

गौरतलब है कि बिहार के डिप्टी सीएम सुशील मोदी भी बाढ़ की वजह से अपने घर में फंसे हुए थे. तीन दिन तक बाढ़ में फंसे रहने के बाद एनडीआरएफ की टीम की मदद से वो उनके घर के बाकी लोग बाहर निकल सके थे. सवाल ये कि जब डिप्टी सीएम तीन दिन तक बाढ़ की वजह से घर में बंद हो सकते हैं तो आम लोगों का क्या हाल होगा? उन गरीब लोगों का क्या हाल होगा जिनके पास कोई मदद नहीं पहुंची है?

Bihar Rains Flood: जल प्रलय में डूब गया बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का सुशासन!

Bihar Patna Rains Latest Photos Videos: बिहार में बाढ़ ने मचाया कोहराम, 40 लोगों ने गंवाई जान, एनडीआरएफ की 22 टीमें तैनात, फोटो वीडियो में देखें तबाही का मंजर

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App