पटना. बिहार में सियासी पारा चुनावी जीत के बाद अलग मोड़ ले चुका है. नीतीश कुमार की पार्टी जेडीयू ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की कैबिनेट में शामिल होने से इनकार कर दिया. पार्टी एक ही मंत्री पद दिए जाने से नाराज थी. वहीं दूसरी तरफ पार्टी के उपाध्यक्ष और राजनीतिक रणनीतिकार प्रशांत किशोर पर भी सबकी नजरें रहेंगी. दरअसल नरेंद्र मोदी की सबसे मुखर विरोधी ममता बनर्जी का चुनाव कैंपेन प्रशांत किशोर की कंपनी ‘आईपैक’ ही मैनेज करेगी. प्रशांत किशोर ने ममता से दो घंटे तक मुलाकात की. ऐसे में आज नीतीश कुमार के आवास पर जेडीयू राष्ट्रीय कार्यकारणी की बैठक में आगामी विधानसभा चुनावों के साथ-साथ प्रशांत किशोर की भूमिका पर भी चर्चा हो सकती है.

नीतीश कुमार के आवास एक अणे मार्ग पर जेडीयू राष्ट्रीय कार्यकारणी की बैठक शुरू हो चुकी है. इस बैठक में नीतीश कुमार आगामी बिहार विधानसभा चुनावों को लेकर पार्टी की रणनीति पर चर्चा करेंगे. बिहार में लोकसभा चुनावों में एनडीए को प्रचंड बहुमत मिला था. एनडीए ने बिहार लोकसभा की 40 में से 39 सीटों पर जीत दर्ज की थी. जेडीयू को 16 लोकसभा सीटों पर जीत हासिल हुई थी. हालांकि मंत्रीमंडल में शामिल न होने के बाद सियासी हलकों में अफवाहों का बाजार गर्म हो गया कि नीतीश एक बार फिर बीजेपी का साथ छोड़ सकते हैं. नीतीश कुमार ने इन अफवाहों का कई मौकों पर खंडन किया. प्रशांत किशोर के ममता बनर्जी से जुड़ने पर भी नीतीश ने कहा था, “इसका जवाब तो वहीं (प्रशांत किशोर) देंगे. वो एक राजनीतिक कैंपन करने वाली कंपनी से भी जुड़े हैं. यह पार्टी का मामला नहीं है.”

जेडीयू के राजनीतिक भविष्य पर चर्चा
जेडीयू राष्ट्रीय कार्यकारणी की बैठक में पार्टी के राजनीतिक भविष्य की चर्चा होगी. पार्टी झारखंड में चुनाव लड़ेगी या नहीं इसका फैसला भी राष्ट्रीय कार्यकारणी ही करेगी. दिलचस्प बात ये है कि बिहार के अलावा जेडीयू को अरुणाचल प्रदेश में भी स्टेट पार्टी का दर्जा मिल गया है. चुनाव आयोग ने जेडीयू को इस बाबत पत्र भेजकर जानकारी भी दी. हाल ही में अरुणाचल प्रदेश में हुए विधानसभा चुनावों में जेडीयू के सात विधायक जीते हैं. ऐसे में बिहार से सुदूर अरूणाचल में जेडीयू की कामयाबी हैरान करने वाली है. गौरतलब है कि बिहार में जेडीयू के करीब पचास लाख सदस्य हैं जबकि राज्य के बाहर देश भर में जेडीयू के करीब 16 लाख सक्रिय सदस्य हैं.

Mamata Banerjee Prashant Kishor Tie Up: आंध्र प्रदेश में जगनमोहन रेड्डी को जिताने के बाद बंगाल में बीजेपी के खिलाफ ममता बनर्जी और टीएमसी का विधानसभा चुनाव मैनेज करेंगे प्रशांत किशोर

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App